Home » बिहार » Rocky Yadav surrenders before Gaya district Court after cancellation of bail
 

रॉकी यादव ने गया कोर्ट में किया सरेंडर, रोडरेज केस में रद्द हुई थी जमानत

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 October 2016, 11:02 IST
(फेसबुक)

बिहार के आदित्य सचदेवा रोडरेज केस में मुख्य आरोपी और निलंबित जेडीयू एमएलसी मनोरमा देवी के बेटे रॉकी यादव ने गया की जिला अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को रॉकी की जमानत रद्द कर दी थी.

पटना हाईकोर्ट से रॉकी को जमानत मिली थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी, जिसके बाद रॉकी के दोबारा जेल जाने का रास्ता साफ हो गया था. हालांकि जमानत रद्द होने के बाद जब गया पुलिस रॉकी के घर पर पहुंची तो वो फरार हो गया था. 

सुप्रीम कोर्ट ने रद्द की जमानत

इससे पहले गया की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गरिमा मलिक ने बताया कि जब रॉकी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस घर पहुंची, वो फरार हो चुका था.

उन्होंने कहा, "जैसे ही सुप्रीम कोर्ट के द्वारा रॉकी की जमानत रद्द होने का फैसला हमारे पास पहुंचा, पुलिस ने एपी कॉलोनी में रॉकी यादव के मकान पर छापा मारा, लेकिन वह तब तक फरार हो चुका था."

हालांकि रॉकी यादव के वकील ने अतिरिक्त जिला न्यायाधीश की अदालत में हलफनामा देते हुए कहा कि वह गया के बाहर है और शनिवार को अदालत में पेश होगा.

वहीं रॉकी की मां एवं निलंबित जदयू विधान परिषद सदस्य मनोरमा देवी और उनके पति बिंदी यादव ने कहा कि उनका परिवार न्यायपालिका का सम्मान करता है.

क्या है आदित्य सचदेवा रोडरेज मामला?

रॉकी बिहार की सत्ताधारी पार्टी जनता दल यूनाइटेड की निलंबित एमएलसी मनोरमा देवी का बेटा है. आरोप है कि सात मई 2016 को गया में गाड़ी ओवरटेक करने को लेकर हुए विवाद में उसने बारहवीं के छात्र आदित्य सचदेवा की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

इस मामले को लेकर बिहार की राजनीति में भी उबाल आ गया था. रॉकी के परिवार वालों पर वारदात के बाद उसे छिपाने का आरोप है. बिहार पुलिस रॉकी और दूसरे आरोपियों के खिलाफ गया कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है.

पुलिस ने रॉकी के चचेरे भाई टेनी यादव, पिता बिंदी यादव और एमएलसी मनोरमा देवी के बॉडीगार्ड राजेश कुमार को भी चार्जशीट में अभियुक्त बनाया है.

बिहार सरकार ने चौतरफा दबाव के बाद इस मामले की तेज सुनवाई कराई. तीन हफ्ते में मामले की जांच पूरी होने के बाद वारदात के एक महीने के अंदर ही पुलिस ने चार्जशीट दाखिल कर दी थी.

First published: 29 October 2016, 11:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी