Home » बिहार » Bhagalpur led the Union minister's son to lead the journey of communal tension
 

भागलपुर में केंद्रीय मंत्री के बेटे ने की साम्प्रदायिक तनाव फ़ैलाने वाली यात्रा की अगुवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 March 2018, 11:20 IST

बिहार के भागलपुर में बीजेपी, आरएसएस और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की रैली का नेतृत्व केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेटे अरिजीत शाश्वत ने किया था. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार इन कार्यकर्ताओं ने ही कथित तौर पर भड़काऊ नारे लगाए, जिससे साम्प्रदायिक तनाव फैला था.

रिपोर्ट के अनुसार इस शोभायात्रा का आयोजन शनिवार हिंदू नव वर्ष की पूर्व संध्या पर भारतीय नववर्ष जागृति समिति द्वारा आयोजित किया था. ये 15 किलोमीटर लंबी ये शोभायात्रा आधा दर्जन ऐसी जगहों से गुजरी जो मुसलमानों के प्रभाव वाले थे. इस दौरान मुस्लिम बहुल इलाके में मेडिनी चौक में तनाव उत्पन्न हुआ था.

सूत्रों के मुताबिक मोटरसाइकिल जुलूस करीब शाम करीब 3.45 बजे इलाके से गुजर रहा था, जब वहां पत्थर बाजी हुई. ललमटिया चौकी के प्रभारी संजीव कुमार ने कहा कि यात्रा के दौरान उत्तेजक नारे लगाए जो हिंसा को शुरू कर सकते थे.

इस बात से इनकार करते हुए शाश्वत का कहना है कि यह एक मोटरसाइकिल का जुलूस था और पत्थर बाजी हुई तब मैं लगभग 3-4 किमी दूर था. पुलिस की जीप मेरे आगे चल रही थी, आप इस बात की पुष्टि के लिए वीडियो क्लिप की जांच कर सकते हैं कि मैं क्या कह रहा हूं."

ये भी पढ़ें : झारखंड: गोरक्षा के नाम पर हुई हत्या मामले में पहली बार अदालत ने सुनाया फैसला, 11 दोषी करार

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री, ने चौबे का कहना है कि "मुझे गर्व है कि अरिजीत मेरा बेटा है, सभी भाजपा कार्यकर्ता मेरे बेटे की तरह हैं. हिन्दू नव वर्ष मानाने के लिए जुलूस का नेतृत्व करने में क्या गलत है? क्या भारत माता की बात करना गलत है ? क्या वंदे मातरम कहना गलत है?

First published: 19 March 2018, 11:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी