Home » बिहार » bhagalpur riots accused arjit chaube surrenders in patna at midnight
 

भागलपुर हिंसा: अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत ने किया सरेंडर, दंगे में है आरोपी

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2018, 9:07 IST

बिहार के भागलपुर में 17 मार्च को सांप्रदायिक हिंसा हुई थी. 17 मार्च को हिंदू नववर्ष की शोभा यात्रा के दौरान भागलपुर के चंपानगर में दो पक्षों के बीच रोड़ेबाजी, आगजनी, फायरिंग की घटना हुई थी. इस घटना में पुलिस जवान समेत कई लोग घायल हो गए थे. इस हिंसा में केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के बेट अर्जित शाश्वत का नाम आया था. कोर्ट ने अर्जित की गिरफ्तारी के लिए 24 मार्च को वारंट जारी किया था. अब खबर आ रही है के शनिवार देर रात उन्होंने सरेंडर कर दिया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अर्जित शाश्वत ने देर रात करीब 12 बजे सरेंडर कर दिया है. सरेंडर करने से पहले अर्जित ने मीडिया के सामने नारेबाजी भी की. वह अपने कई समर्थकों के साथ सरेंडर करने गए थे. एएसपी राकेश दुबे ने उन्हें भीड़ के बीच से गिरफ्तार किया.

 

दरअसल, शनिवार शाम को भागलपुर कोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत की याचिका खारिज कर दी थी. उनसे खिलाफ नाथनगर थाने में एफआईआर दर्ज की गई है.

गिरफ्तार होेने से पहले अर्जित ने कहा कि वे अभी तक कोर्ट की शरण में थे. अब कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी है. इसलिए वह सरेंडर कर रहे हैं. इसके अलावा अर्जित ने दंगे के लिए भागलपुर के विधायक को जिम्मेदार बताते हुए कहा, "मैं एक ही बात जानता हूं कि भागलपुर में 10 दिनों से जो गतिविधि हो रही है, उसके लिए विधायक शर्माजी जिम्मेदार हैं."

 

अर्जित ने कहा कि विधायक के फोन का रिकॉर्ड निकाल लीजिए तो पता चल जाएगा कि कौन दंगाई है. उन्होंने कहा कि शोभायात्रा निकालने के बाद नाथनगर थाना का रवैया आपत्तिजनक रहा. हमारे जैसे राष्ट्रभक्तों की भावना 'भारत माता की जय, वंदे मातरम और जय श्रीराम' कहने की थी.

पढ़ें- इंदौर: पिलर से कार टकराने से ढहा चार मंजिला होटल, 10 की मौत, कई लोग दबे

अर्जित की गिरफ्तारी के बाद उन्हें गांधी मैदान थाना ले जाया गया. इस पर भागलपुर के एसएसपी मनोज कुमार ने कहा कि जमानत याचिका खारिज होने और कोर्ट में कुर्की का आवेदन देने से अर्जित पर दबाव बढ़ा, जिसके चलते पुलिस को कामयाबी मिली. भागलपुर और पटना पुलिस की संयुक्त टीम की कोशिश से यह मुमकिन हो सका.

First published: 1 April 2018, 9:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी