Home » बिहार » Bihar: BJP leaders go to controversial temple
 

बिहार: भाजपा नेताओं के मंदिर में पूजा करने से उठा विवाद

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2017, 11:09 IST
Girijaj singh

बिहार के मुस्लिम बहुल सीमाई जिले किशनगंज में दो केंद्रीय मंत्रियों और बिहार भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने सरकारी जमीन पर, मस्जिद के समीप बने एक मंदिर में पूजा की, जिसके बाद उस मंदिर को स्थानीय लोगों के लिए खोलने की मांग उठने लगी. इस मंदिर का पूरी तरह निर्माण नहीं हुआ है और यह मंदिर बंद रहता है.

खबरों के मुताबिक किशनगंज में बुधवार को केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह और रामकृपाल यादव ने बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार के साथ काली माता मंदिर जा कर पूजा अर्चना की. इस पर राजद और जदयू नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

भाजपा नेता यहां बिहार प्रदेश भाजपा कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक के लिए आए थे. मंत्रियों के भ्रमण से उत्साहित हो कर बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मंदिर के आसपास एकत्र हो गए और उन्होंने श्रद्धालुओं के लिए स्थायी तौर पर मंदिर खोले जाने की मांग की.

किशनगंज के सर्किट हाऊस के निकट कालू चौक के समीप स्थित इस काली माता मंदिर को पिछले साल अक्तूबर महीने में अनुमंडल अधिकारी (एसडीओ) मोहम्मद शफीक अहमद द्वारा ध्वस्त करने का निर्देश दिए जाने के बाद से विवाद गहरा गया था.

सिंह का आरोप है कि एसडीओ के हस्तक्षेप के बाद मंदिर का निर्माण रोक दिया गया और लोगों को मंदिर आने से मना कर दिया गया. इस मंदिर के नजदीक सरकारी जमीन पर एक मस्जिद भी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में एमएसएमई राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने अनुमंडल अधिकारी को तुरंत हटाए जाने और मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए फिर से तुरंत खोले जाने की मांग की.

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता प्रेम कुमार ने मंदिर में श्रद्धालुओं के जाने पर रोक लगाए जाने तथा प्रदेश की महागठबंधन सरकार पर मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप लगाया. भाजपा नेताओं के उक्त मंदिर में जाने से बिहार में राजनीति गरमा गयी है. इस मामले में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भाजपा पर प्रदेश के सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने का प्रयास करने का आरोप लगाया.

राजद नेता तथा बिहार के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री अब्दुल गफूर ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए आरोप लगाया कि प्रदेश में भाजपा के पास कोई सकारात्मक मुद्दा नहीं बचा है इसलिए वे किशनगंज के उक्त विवादित मंदिर का मुद्दा उठाकर सांप्रदायिक तनाव को हवा देने की कोशिश कर रहे हैं.

बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने भाजपा पर महागठबंधन सरकार के कार्यकाल के दौरान प्रदेश में अमन-चैन को खराब करने के लिए नियमित प्रयास करने का आरोप लगाया और गिरिराज पर लोगों को भडकाने के लिए कार्रवाई किए जाने मांग की.

बिहार विधान सभा में उपनेता और जदयू के वरिष्ठ नेता श्याम रजक ने गिरीराज पर बरसते हुए उनपर कानून के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया और प्रधानमंत्री से उन्हें मंत्रिमंडल से हटाए जाने की मांग की. गौरतलब है कि भाजपा ने पश्चिम बंगाल की सीमा पर स्थित मुस्लिम बहुल किशनगंज जिले में अपनी राज्य कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक का आयोजन किया है.

First published: 4 May 2017, 11:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी