Home » बिहार » Bihar cm Nitish Kumar calls party meeting can break BJP JDU alliance
 

बिहार में टूट की कगार पर BJP-JDU गठबंधन, नीतीश कुमार ने दिखाए तेवर

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2018, 8:42 IST

बिहार में राजनीति का अखाड़ा इन दिनों फिर पैंतरे बदल रहा है. महागठबंधन तोड़कर अचानक से भाजपा के साथ सरकार बनाने वाली पार्टी जेडीयू ने अब बीजेपी को अपना तेवर दिखाना शुरू कर दिया है. जिसकी वजह से बीजेपी बैकफुट पर आ गई है. बिहार में बीजेपी और जेडीयू में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. 

दरअसल रविवार 3 जून को राज्य के मुख्यमंत्री और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार ने अपने आवास पर जेडीयू कोर कमेटी की बैठक बुलाई थी. बैठक के बाद पार्टी के महासचिव पवन वर्मा ने बड़ा बयान दिया. वर्मा ने कहा कि लोकसभा चुनाव में एनडीए से बिहार का चेहरा नीतीश कुमार होंगे. खास बात यह है कि इस बैठक में पार्टी के रणनीतिकार प्रशांत किशोर भी मौजूद थे.

 

बैठक के बाद पार्टी महासचिव के सी त्यागी ने भी कह दिया कि बिहार में एनडीए गठबंधन में उनकी पार्टी जेडीयू बड़े भाई की भूमिका में होगी. उन्होंने यह भी कहा कि उनके नेता सीएम नीतीश कुमार की अगुवाई में ही चुनाव लड़ा जाएगा और उनकी पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में 25 से कम सीटों पर समझौता नहीं करेगी.

गौरतलब है कि बिहार की कुल 40 लोकसभा सीटों में से 22 पर अभी बीजेपी का कब्जा है, जबकि 6 पर एनडीए के सहयोगी रामविलास पासवान की पार्टी लोजपा और तीन पर उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी आरएलएसपी का कब्जा है.

लोकसभा चुनाव 2014 में नीतीश कुमार एनडीए से अलग थे. उनके कुल दो सांसद हैं. हालांकि, बिहार विधान सभा में जेडीयू बीजेपी से बड़ी पार्टी है.

पढ़ें-प्रणब मुखर्जी ने नहीं मानी कांग्रेस के नेताओं की बात, कहा- RSS कार्यक्रम में जाकर दूंगा जवाब

इसके अलावा पवन वर्मा ने कहा कि हम अपने जीएसटी और विशेष राज्य के दर्जे के मुद्दे पर अभी भी कायम हैं और इस मुद्दे से कतई पीछे नहीं हट सकते. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने विशेष राज्य के मुद्दे पर अपनी बात मजबूती से रखी थी और वित्त आयोग को पत्र लिखा था.

First published: 4 June 2018, 8:40 IST
 
अगली कहानी