Home » बिहार » Bihar: Encephalitis death toll rises to 100 in Muzaffarpur
 

बिहार : चमकी बुखार से 12 जिले प्रभावित, बच्चों की मौत का आंकड़ा 100 के पार

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 June 2019, 15:40 IST

 

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को बिहार में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 100 हो गई है. मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) में अधीक्षक सुनील कुमार ने इसकी पुष्टि की है. 1 जनवरी से एईएस वाले 358 बच्चों को एसकेएमसीएच और केजरीवाल मातृसदन में भर्ती कराया गया है. मुख्यमंत्री कार्यालय से एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि नीतीश कुमार ने राज्य में बच्चों की मौत पर दुख व्यक्त किया है और प्रकोप में मारे गए बच्चों में से प्रत्येक के लिए 4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की है.

उन्होंने स्वास्थ्य विभाग, जिला प्रशासन और डॉक्टरों के अधिकारियों को भी स्थिति से निपटने के लिए हर संभव उपाय करने के निर्देश दिए हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को SKMCH का दौरा किया और आश्वासन दिया कि SKMCH में 100-बेड वाले बच्चों के वार्ड की स्थापना की जाएगी. अपनी यात्रा के दौरान मंत्री विरोध प्रदर्शन करने वाले परिवारों से मिले. इस दौरान जन अधिक्कार पार्टी के समर्थकों ने वर्धन में काले झंडे भी लहराए.

 

मरीजों के रिश्तेदारों ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से डॉक्टरों और नर्सों की सुविधाओं की कमी और प्रतिक्रिया के बारे में शिकायत की. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) संजय कुमार ने कुछ दिनों पहले कहा था कि इस बीमारी ने मुजफ्फरपुर, वैशाली, चंपारण सहित 12 जिलों में 222 ब्लॉकों को प्रभावित किया है.

एईएस केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है, यह ज्यादातर बच्चों और युवा वयस्कों में बुखार के साथ शुरू होता है, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के अधिकारियों का कहना है कि 1995 से मुजफ्फरपुर में एईएस का प्रकोप जारी है. इस वर्ष में मृत्यु का कारण हाइपोग्लाइकेमिया (निम्न रक्त शर्करा स्तर) को माना गया है.

बिहार में चमकी बुखार से 93 बच्चों की मौत, स्वास्थ्य मंत्री ने दिया हर संभव मदद का आश्वासन

First published: 17 June 2019, 15:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी