Home » बिहार » Bihar encephalitis deaths: 19 people booked for blocking road in Vaishali district last week
 

बिहार इंसेफेलाइटिस: जिन्होंने बीमारी से गंवाए बच्चे, उन्हीं पर दर्ज हुई पुलिस की FIR

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 June 2019, 11:32 IST

बिहार पुलिस ने वैशाली जिले के हरिवंशपुर गांव के 19 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. इन लोगों पर आरोप है कि इन्होंने हाजीपुर-मुजफ्फरपुर राजमार्ग पर यातायात बाधित किया. ये लोग मुजफ्फरपुर के अस्पतालों में हो रही बच्चों की मौत के मामले में विरोध कर रहे थे. प्रदर्शनकारियों ने अपने गांव में पीने के पानी की आपूर्ति की भी मांग की थी. इससे पहले ग्रामीणों ने तीन घंटे तक राजमार्ग को अवरुद्ध किया था, जब उन्हें पता चला कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पास के मुजफ्फरपुर जिले में श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल का दौरा कर रहे हैं. उन्होंने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की.

मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटिस से कम से कम 131 बच्चों की मौत हो गई है. पीटीआई के अनुसार भगवानपुर स्टेशन हाउस ऑफिसर संजय कुमार ने कहा, "एफआईआर में कुल 19 लोगों को नामित किया गया है और कुछ आरोपियों की पहचान करने के लिए जांच जारी है." द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार जिन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है उनमे दो व्यक्ति ऐसे भी हैं जिनके बच्चों की मौत एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम से हुई है.

रिपोर्ट के अनुसार राजेश साहनी, जिनकी सात वर्षीय बेटी की 9 जून को इंसेफेलाइटिस से मृत्यु हो गई, ने कहा कि एफआईआर रिपोर्ट में अपना नाम देखकर वह आश्चर्यचकित हैं. उन्होंने कहा "राज्य सरकार बच्चों के मरने के बाद भी हमारी बात नहीं सुन रही थी, हममें से कई ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर विरोध प्रदर्शन किया, पानी के टैंकरों की मांग की."

इसी तरह रामदेव साहनी, जिन्होंने अपनी दो साल की बेटी को बीमारी से खो दिया था, का नाम भी एफआईआर में है. उन्होंने पूछा "पानी के टैंकरों की मांग करना एक अपराध है?" यह गरीबों के प्रति सरकार के रवैये को दर्शाता है." रामदेव साहनी ने पुलिस दस्तावेज़ में उल्लिखित आरोपों से इनकार किया.

बिहार: तेजस्वी यादव के बाद अब राम विलास पासवान हुए लापता, लगे गुमशुदगी के पोस्टर

First published: 26 June 2019, 10:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी