Home » बिहार » Bihar Govt engineer slept on the bed of notes surveillance department exposed
 

नोटों के बिस्तर पर सोता था बिहार का ये इंजीनियर, छापेमारी में मिले करोड़ों रुपये

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 June 2019, 10:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

किसी सरकारी विभाग में तैनात एक इंजीनियर की सैलरी कितनी होगी? तो आप कहेंगे एक या दो लाख रुपये. लेकिन बिहार में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने अधिकारियों के होश उड़ा दिए. क्योंकि यहां एक सरकारी इंजीनियर के घर से इतने रुपये बरामद हुए कि अधिकारी भी हैरान रह गए. ये इंजीनियर नोटों के बिस्तर पर सोता था. दरअसल, बिहार में निगरानी विभाग ने पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक इंजीनियर सुरेश प्रसाद और कैशियर शशिभूषण कुमार को 14 लाख रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया.

बताया जा रहा है कि ये पैसे पटना के पास बिहटा से बिक्रम के बीच बन रही सड़क के करार के लिए मांगे गए थे. जब निगरानी विभाग ने छापेमारी की तो कई खुलासे हुए. जिसे जानकर निगरानी विभाग के अधिकारी खुद हैरान रह गए. क्योंकि छापेमारी के दौरान पता चला कि ये इंजीनियर नोटों के बिस्तर पर सोता था. विभाग को उसके घर से अब तक 2करोड़ 40 रुपये की नकदी मिली है.

निगरानी विभाग के डीएसपी गोपाल पासवान के मुताबिक, साज इंफ्राकॉम प्रोजेक्ट लिमिटेड के ठेकेदार अखिलेश कुमार जायसवाल बिहटा से बिक्रम तक सड़क बनवा रहे हैं. इसके ठेके लिए इंजीनियर सुरेश और कैशियर शशि ने 28 लाख रुपये की मांग थी. पहली किस्त के तहत 14 लाख देने के लिए सुरेश ने ठेकेदार को अपने पटेल नगर स्थित घर पर बुलाया था. इसी दौरान निगरानी विभाग की टीम ने रिश्वत लेते दोनों को गिरफ्तार कर लिया.

निगरानी विभाग ने दोनों की गिरफ्तारी के बाद घर की तलाशी ली. इसमें उसके बिस्तर के अंदर से नोटों की गड्डियां बरामद हुईं. साथ ही पलंग के नीचे भी करोड़ों रुपये मिले. अब तक की छापेमारी में उसके घर से 2 करोड़ 40 लाख रुपये बरामद हो चुके हैं. इसके अलावा कई जमीन के दस्तावेज भी मिले हैं. ऐसा माना जा रहा है कि राज्य में अभी तक किसी सरकारी अधिकारी के घर से एक साथ इतनी बड़ी नकदी बरामद होने का ये पहला मामला है.

मालदीव की संसद से पीएम मोदी का पाकिस्तान को कड़ा संदेश, कहा- पानी अब सिर से ऊपर जा रहा है

First published: 9 June 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी