Home » बिहार » Bihar grand alliance in danger: KC Tyagi said JDU was quite comfortable in coalition with bjp
 

'महागठबंधन' पर महासंकट: त्यागी बोले, भाजपा से गठबंधन में सहज थी पार्टी

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 June 2017, 10:56 IST
नीतीश कुमार और लालू यादव

बिहार में महागठबंधन पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. राष्ट्रपति चुनाव के बाद चल रहे घटनाक्रम इसी तरफ इशारा कर रहे हैं. मंगलवार को जेडीयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी के बयान से महागठबंधन की दरार चौड़ी होती दिख रही है.

केसी त्यागी त्‍यागी ने कहा, "जदयू का जब भाजपा से गठबंधन था, तो जेडीयू काफी सहज थी." कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए त्यागी ने कहा, "हम पांच साल बिहार में गठबंधन चलाना चाहते थे, लेकिन ऐसे बयान बर्दाश्‍त नहीं किए जाएंगे. जदयू गुलाम नबी आजाद के गैर दोस्‍ताना बयान से सहज नहीं है. किसी पार्टी के आला नेता के खिलाफ ऐसा बयान सही नहीं है."

केसी त्‍यागी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, "गांधी और नेहरू का सपना कांग्रेस पूरा नहीं कर पाई. हम यूपीए में नहीं हैं और हम एनडीए से भी बाहर हैं. हमें दूसरी पार्टियां सुझाव ना दें. कांग्रेस के इस तरह के बयानों से गठबंधन की उम्र घटती है."

केसी त्यागी ने इस दौरान कहा कि उनकी पार्टी राष्‍ट्रपति चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का ही समर्थन करेगी. त्यागी ने कहा, "कोविंद को समर्थन देने पर जदयू अडिग है. जिस दिन रामनाथ कोविंद की घोषणा हुई उनके पास 60 प्रतिशत बहुमत था. जब मीरा कुमार के नाम का एलान हुआ उनके पास 40 प्रतिशत से कम वोट थे. किसने हारने के लिए बिहार की बेटी को खड़ा किया." 

गौरतलब है कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा था कि राष्ट्रपति चुनाव में बिहार की बेटी को हारने के लिए खड़ा किया गया है. इस बयान के बाद महागठबंधन में तल्खी देखी गई. लालू के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा कि बिना नतीजा आए कैसे कहा जा सकता है कि जीत किसकी होगी? वहीं कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि नीतीश कुमार एक सिद्धांत वाले शख्स नहीं हैं.

First published: 28 June 2017, 10:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी