Home » बिहार » Bihar: PWD minister Nand Kishore Yadav says bridges break in disaster on Gopalganj collapse
 

बिहार: महीनेभर के भीतर 264 करोड़ का पुल ढहने पर PWD मंत्री ने दिया ये बेतुका बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 July 2020, 15:02 IST

Gopalganj Bridge Collapse: बिहार के गोपालगंज में महीनेभर पहले ही बने पुल के ढहने पर राजनीति शुरू हो गई है. 264 करोड़ की लागत से बने पुल के ढहने पर विपक्ष ने निशाना साधा तो राज्य के पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर ने बेतुका बयान दे दिया. बिहार के पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर नंद किशोर यादव ने कहा है कि यह प्राकृतिक आपदा की वजह से हुआ है. इसमें तो पुल और सड़कें टूटते ही हैं.

पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर ने कहा कि सत्तरघाट का पुल सुरक्षित है. उन्होंने कहा कि मुख्य सत्तरघाट पुल से दो किमी दूर अप्रोच रोड पानी के कटाव की वजह से बहा है. प्राकृतिक आपदा में सड़कें-पुल बहते ही हैं. पुल निर्माण में कोई गड़बड़ी नहीं हुई है. भारी बारिश की वजह से मिट्टी कटाव हुआ. इस कारण पुल ढह गया.

इसके आगे उन्होंने कहा कि आरजेडी इस मुद्दे पर राजनीति कर रही है. इस पर हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है. जल्द ही टूटे हिस्से को ठीक करा लिया जाएगा. बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले 16 जून को इस पुल का उद्घाटन किया था. इस पुल के ध्वस्त होने से चंपारण तिरहुत और सारण क्षेत्र के कई जिलों का संपर्क टूट गया.

बिहार: CM नीतीश कुमार ने किया था उद्घाटन, एक महीने में ढहा पुल ढहा, तेजस्वी यादव बोले- खबरदार..

पुल ढहने पर विपक्ष के नेताओं ने निर्माण में लापरवाही को लेकर जांच की डिमांड की. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने राज्य के मुख्यमंत्री को मामले में घेरा है. उन्होंने कहा कि 263 करोड़ रुपये से 8 साल में बना पुल मात्र 29 दिनों में ढह गया. नीतीश कुमार ने कहा कि संगठित भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश जी अब एक शब्द नहीं बोलेंगे. बिहार में चारों तरफ लूट ही लूट है. 

कश्मीर: पुलिस ने अपनाई शानदार ट्रिक, BJP नेता को किया किडनैप तो आतंकी के परिवार को उठाया, इसके बाद..

बुधवार रात हुआ दुनिया का सबसे बड़ा डिजिटल अटैक, आम लोगों के करोड़ों रुपये हुए स्वाहा

First published: 16 July 2020, 15:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी