Home » बिहार » Congress ashok chaudhary joins nitish kumar jdu along with three mlc in bihar
 

महागठबंधन में आया भूचाल, अशोक चौधरी ने कांग्रेस छोड़ नीतीश का दामन थामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 March 2018, 8:43 IST

बिहार की राजनीति में लगातार सियासी गतिविधियां तेज हो रही है. बिहार के पूर्व सीएम और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने बुधवार को भाजपा की अगुवाई में बने गठबंधन एनडीए से बाहर होने की घोषणा की. जीतन राम मांझी ने लालू की अगुवाई वाले महागठबंधन में शामिल होने की घोषणा की.

भाजपा और नीतीश कुमार के लिए ये बड़ा झटका माना जा रहा था. लेकिन अब बिहार महागठबंधन के प्रमुख दल कांग्रेस में फूट की खबरें सामने आ रही है. कांग्रेस बिहार के नेता अशोक चौधरी को बिहार के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने अशोक चौधरी समेत चार नेताओं को बाहर करने का ऐलान किया. अशोक चौधरी के अलावा निकाले गए तीनों नेता भी विधान परिषद के सदस्य हैं.

कांग्रेस  पार्टी से निकाले गये इन सभी नेताओं ने प्रेस कांफ्रेंस कर जदयू में शामिल होने की इच्छा जतायी है. कांग्रेस पार्टी के फैसले के बाद अशोक चौधरी ने प्रेस कॉन्फ्रेस की. उन्होंने मीडिया से कहा कि हमारे लिए बिना सम्मान पार्टी में रहना मुश्किल हो रहा था. उन्होंने बिहार के सीएम नीतीश कुमार को अपना आइडियल बताया.

अशोक चौधरी ने कांग्रेस के महामंत्री सीपी जोशी पर आरोप लगाते हुए कहा,  "उन्होंने बिहार में कांग्रेस संगठन को बर्बाद कर दिया." बिहार के पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी ने बताया कि बुधवार शाम पांच बजे विधान परिषद उपसभापति से मिलकर हमने ने कांग्रेस छोड़ने की सूचना दे दी थी. ये चारो विधायक अब जेडीयू का थामन थामेंगे.

 

प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी के बारे में अशोक चौधरी ने कहा, "उन्हें राजनीतिक अनुभव की कमी है. साथ ही कांग्रेस महामंत्री सीपी जोशी पर यूज एंड थ्रो का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि करीब चार साल तक कांग्रेस की सेवा करने के बाद उन्हें अलग-थलग कर दिया गया."

हालांकि अशोक चौधरी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ की है और उन्हें नेकदिल इंसान बताया है. उन्होंने अफसोस जाहिर करते हुए कहा , "राहुल इन दिनों सीपी जोशी जैसे लोगों से घिरे हैं. सीपी जोशी ने एक व्यक्ति विशेष को अध्यक्ष बनाने के लिए उन्होंने सारा खेल रचा."

गौरतलब है कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी कई महीनों से नाराज चल रहे थे. बुधवार को चौधरी की अगुवाई में उनके 2 पोलो रोड स्थित सरकारी आवास पर समर्थकों के साथ देर शाम तक बैठक चली. इसमें सभी ने कांग्रेस छोड़ने का फैसला लिया और बाद में आधिकारिक घोषणा की.

विधान परिषद में कांग्रेस के छह सदस्य हैं. अशोक चौधरी की तरफ से विधान परिषद के उप सभापति हारुन रशीद को उन्हें अलग गुट की मान्यता देने का अनुरोध किया गया है. इस बाबत उनके साथी रामचंद्र भारती द्वारा उप सभापति को पत्र लिखा गया है.

ये भी पढें- बिहार: जीतनराम मांझी ने छोड़ा NDA, RJD वाले महागठबंधन में हुए शामिल

First published: 28 February 2018, 22:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी