Home » बिहार » Jitan Ram Manjhi's letter to PM Modi regarding Ram Vilas Paswan's death, demand for investigation
 

रामविलास पासवान की मौत को लेकर जीतन राम मांझी का पीएम मोदी को पत्र, जांच की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 November 2020, 16:00 IST

पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के नेता रामविलास पासवान की मौत को लेकर राजनीतिक बवाल मच गया है. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने पासवान की मौत पर सवाल खड़े किए हैं. हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हम) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर मामले की न्यायिक जांच की मांग की है. लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान का कहना है कि जांच की मांग करने वालों को शर्म आनी चाहिए. इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि रामविलास पासवान की मौत की न्यायिक जांच होनी चाहिए.

मांझी ने कहा पासवान राज्य के बड़े नेता और केंद्रीय मंत्री भी थे. मांझी ने कहा ''उनके स्वास्थ्य को लेकर कोई मेडिकल बुलेटिन जारी नहीं किया गया और उनकी मौत की खबर भी देर से जारी की गई''.  हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के प्रवक्ता डॉ दानिश रिजवान ने लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष चिराग पासवान पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा ''देश की जनता ये जानना चाहती है कि आखिर चिराग पासवान रामविलास पासवान से जुड़ी कौन सी जानकारी छिपा रहे हैं.'' 


प्रवक्ता डॉ दानिश रिजवान ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा ''पासवान देश के बड़े दलित नेता एवं आपके मंत्रिमंडल के सदस्य रहे उनका कुछ दिन पहले देहांत हो गया. उनके निधन से पूरे देश में शोक की लहर है.''  पत्र में कहा गया ''लोक जनशक्ति पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान उनके अंतिम संस्कार के दूसरे दिन ही एक शूटिंग के दौरान ना केवल हस्ते मुस्कुराते दिखाई दिए, बल्कि शूटिंग भी की. ऐसे में रामविलास जी के प्रशंसकों एवं परिजनों के बीच कई तरह के सवाल उठने लगे हैं.'' 

पत्र में कहा गया है कि किसी केंद्रीय मंत्री के अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान आखिर किसके कहने पर अस्पताल प्रशासन ने रामविलास पासवान का मेडिकल बुलेटिन जारी नहीं किया. पत्र के अनुसार ''आखिर किसके कहने पर अस्पताल प्रशासन ने राम विलास पासवान से सिर्फ तीन लोगों को ही मिलने की इजाजत दी थी.''  पत्र में लिखा गया है ''उपरोक्त बातों को ध्यान में रखते हुए रामविलास पासवान के निधन की न्यायिक जांच की जाए, ताकि जनता के बीच सच सामने आ सके.''

चिराग पासवान ने कहा

पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की मौत की न्यायिक जांच को लेकर लिखे गए पत्र पर  लोजपा अध्यक्ष और उनके बेटे चिराग पासवान ने कहा, ''जो लोग एक बेटे के बारे में ऐसी बातें कर रहे हैं उन्हें खुद पर शर्म आनी चाहिए. मैंने मांझी जी को फोन पर अपने पिता की गंभीर स्थिति के बारे में बताया है, फिर भी वह कभी मेरे बीमार पिता को देखने नहीं आए.''

उन्होंने कहा ''मांझी जी जिस तरह से अब मेरे पिता के बारे में बात कर रहे हैं, जब उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, तब उन्होंने उनके बारे में इतनी चिंता क्यों नहीं दिखाई? हर कोई अब एक मृत व्यक्ति के ऊपर राजनीति खेल रहा है, जब वह जीवित थे तो किसी ने उनसे मिलने जाने की जहमत क्यों नहीं उठाई?'

कोरोना वायरस: WHO चीफ को खुद को करना पड़ा क्वारंटीन, दुनियाभर में 12 लाख लोगों की मौत

First published: 2 November 2020, 16:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी