Home » बिहार » Lalu Prasad Yadav convicted in third fodder scam case Quantum of sentence to be announced after 2 pm by Ranchi Court
 

चारा घोटाला: थोड़ी देर में होगा लालू की सजा का ऐलान

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 January 2018, 12:59 IST

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले के तीसरे केस में भी दोषी करार दिए गए हैं. इस मामले में पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा भी दोषी करार दिए गए हैं. इससे पहले दो मामलों में भी लालू यादव दोषी करार दिए जा चुके हैं. रांची की सीबीआई कोर्ट ने 23 दिसंबर और 3 जनवरी को भी लालू को चारा घोटाले के दो अलग-अलग मामलों में दोषी करार दिया था.

इस मामले में लालू यादव, जगन्नाथ मिश्रा, विघासागर निषाद ,जगदीश शर्मा, आरके राणा, सिलास तिर्की सहित 50 आरोपियों को दोषी करार दिया गया है, जब कि छह आरोपियों को इस मामले में बरी भी किया गया है. फिलहाल कोर्ट में सजा पर बहस जारी है, दोपहर 2 बजे के बाद सजा का ऐलान भी किया जा सकता है.

 

इस मामले में बहस दस जनवरी को पूरी हो गई थी और इस मामले में अदालत ने फैसला सुरक्षित कर लिया था. बुधवार को हुई सुनवाई में लालू के अलावा कुल 56 में से 50 लोगों को इस मामले में दोषी करार दिया गया है. बाकी 6 को निर्दोष बताया गया है.

लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिए जाने पर आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद ने कहा कि हम पहले भी झटके झेल चुके हैं. अब हम दो स्‍तर पर लड़ाई लड़ेंगे एक कानूनी और दूसरी लड़ाई सड़क पर लड़ी जाएगी.

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार की जनता लालू जी को अपना हीरो मानती है, जनता के लिए लालू आरोपी नहीं है. हम इस मामले को आगे हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट भी ले जाएंगे. नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने कहा कि लालू को फंसाने की साजिश हुई है, नीतीश की कैबिनेट में भी कई दागी बैठे हैं. नीतीश कुमार बार-बार दिल्ली इसलिए जाते हैं कि वह लालू को फंसाने की साजिश रच सके.

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने लालू को दोषी ठहराने के बाद कहा कि जब वह राज्य को लूट रहे थे ये उसी की सजा है. अभी तो सिर्फ तीन ही मामले में सजा मिली है, दो मामले अभी भी बाकी हैं. ये पहली बार नहीं है कि वह दोषी करार दिए गए हैं.

चारा घोटाले के इस मामले में दोषी करार

साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये का फर्जीवाड़ा करके अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के मामले में लालू समेत 22 लोग आरोपी हैं. सीबीआई ने 27 अक्तूबर, 1997 को इन सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. 21 साल बाद इस मामले में शनिवार को फैसला आ रहा है. बिहार में हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे.

लालू यादव को चारा घोटाले के एक मामले में सज़ा हो चुकी है. लालू प्रसाद यादव को साल 2012 में 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये की अवैध ढंग से निकासी करने के मामले मे 5 साल की सजा हो चुकी है. इस समय उन्हें सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में जमानत मिली है.

12 दिसंबर, 2001 को 76 आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की गई थी. ट्रायल के दौरान ही 14 आरोपियों की मौत हो गई, वहीं तीन आरोपी सरकारी गवाह बन गए. दो आरोपियों ने दोष स्वीकार कर लिया है.

चाईबासा गबन के इस मामले में कोर्ट ने 56 आरोपियों में से 50 को दोषी ठहराया है. मामले में कुल 56 आरोपी ट्रायल का सामना कर रहे हैं. इसमें लालू यादव, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा सहित छह नेता शामिल हैं.

First published: 24 January 2018, 12:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी