Home » बिहार » Lalu Prasad Yadav fodder scam sentencing postponed, to be announced tomorrow by cbi court ranchi
 

जानिए क्यों आज सजा से बच गए लालू यादव

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 January 2018, 13:02 IST

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को बुधवार को रांची की सीबीआई कोर्ट में सज़ा नहीं सुनाई जा सकी. अब लालू को गुरुवार को सीबीआई कोर्ट सजा सुनाएगी.

वकील विन्देश्वरी प्रसाद के निधन के कारण कोर्ट ने लालू यादव पर फैसला गुरुवार तक टाल दिया. अब गुरुवार को कोर्ट लालू समेत 16 लोगों को गुरुवार को सज़ा सुनाएगी. इससे पहले लालू यादव कोर्ट में पेश होने आए. लालू को कड़ी सुरक्षा में कोर्ट में लाया गया. लालू इस समय रांची की बिरसा मुंडा जेल में हिरासत में हैं. 

सीबीआई कोर्ट ने आरजेडी के कई नेताओं को कोर्ट के अवमानना का दोषी ठहराते हुए 23 जनवरी को पेश होने को कहा है. जिन लोगों को कोर्ट ने पेश होने को कहा है उनमें लालू के बेटे और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव, आरजेडी के सीनियर नेता रघुवंश प्रसाद सिंह और आरजेडी प्रवक्ता मनोज झा है.

गौरतलब है रांची की सीबीआई कोर्ट ने पिछले साल 23 दिसंबर को लालू को चारा घोटाले के एक और मामले में दोषी करार दिया था. रांची की सीबीआई कोर्ट बुधवार को 11 बजे लालू को इस मामले में सजा सुनाएगी. 

सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने लालू प्रसाद यादव के अलावा 15 और लोगों को सजा सुनाई जाएगी. 23 दिंसबर को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने इस मामले में 6 लोगों को बरी कर दिया था. इनमें बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र भी शामिल थे. 

रांची स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो की शिवपाल सिंह की विशेष अदालत में इन सभी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था. इन सभी के खिलाफ आईपीसी की धाराओं 120बी, 409, 418, 420, 467, 468, 471, 477 ए, 201, 511 के साथ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 13(1)(डी) एवं 13(2) के तहत केस चल रहा है. इन में से कई आरोपियों की मौत हो चुकी है.

 

चारा घोटाले के इस मामले में दोषी करार

साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये का फर्जीवाड़ा करके अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के मामले में लालू समेत 22 लोग आरोपी हैं. सीबीआई ने 27 अक्तूबर, 1997 को इन सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. 21 साल बाद इस मामले में शनिवार को फैसला आ रहा है. बिहार में हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे.

हम आपको बता दें कि लालू यादव को को चारा घोटाले के एक मामले में सज़ा हो चुकी है. लालू प्रसाद यादव को साल 2012 में 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये की अवैध ढंग से निकासी करने के मामले मे 5 साल की सजा हो चुकी है. इस समय उन्हें सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में जमानत मिली है.

First published: 3 January 2018, 13:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी