Home » बिहार » Muzaffarpur shelter home case: court convicts 19 accused including Brajesh Thakur
 

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: अदालत ने बृजेश ठाकुर सहित 19 आरोपियों को दोषी पाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 January 2020, 15:43 IST

दिल्ली की एक अदालत ने बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक आश्रय गृह में लड़कियों के यौन शोषण के मामले में एनजीओ के मालिक बृजेश ठाकुर सहित 19 आरोपियों को दोषी ठहराया है. जबकि एक आरोपी को बरी कर दिया गया है. ब्रजेश ठाकुर को POCSO (प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस) एक्ट के तहत दोषी ठहराया गया है.

इसके अलावा बिहार पीपुल्स पार्टी के पूर्व विधायक सहित 20 आरोपियों में से 19 को नाबालिगों के साथ बलात्कार और मर्मज्ञ यौन हमले के लिए आपराधिक षड्यंत्र सहित कई अन्य आरोपों में दोषी पाया गया है. सभी 19 दोषियों को 28 जनवरी को सुबह 10 बजे सजा सुनाई जाएगी.

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (TISS) द्वारा बिहार सरकार को एक रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद मुजफ्फरपुर आश्रय गृह का मामला मई 2018 में सामने आया, जिसमें यौन शोषण के मामलों को उजागर किया गया था.

इससे पहले सीबीआई सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसने बिहार के मुजफ्फरपुर (शेल्टर होम) आश्रय गृह मामले की अपनी जांच पूरी कर ली है, जिसमें आश्रय गृह में बच्चों की हत्या के कोई सबूत नहीं मिला है.

सीबीआई ने कहा कि फोरेंसिक विश्लेषण से पता चला है कि परिसर में पाए गए दो कंकाल एक पुरुष और एक महिला के थे. एजेंसी ने यह भी कहा कि कम से कम 34 कैदियों का आश्रय में नशीली दवाएं देकर और बलात्कार किया गया था.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: CBI ने SC में कहा- किसी बच्ची की नहीं हुई हत्या, सब जिंदा हैं

First published: 20 January 2020, 15:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी