Home » बिहार » Note ban: Patna Central Bank Cashier Suspended for converting Black money to White
 

नोटबंदी: पटना में बैंक का कैशियर सस्पेंड, ब्लैक मनी को सफेद करने का आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 November 2016, 11:26 IST
(एजेंसी)

मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले को पलीता लगा रहे पटना के सेंट्रल बैंक के कैशियर को सस्पेंड कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि कैशियर काले धन को सफेद करने में लगा हुआ था.

यह भी बताया जा रहा है कि पटना के इस बैंक में काले धन को सफेद करने का खेल बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से धड़ल्ले से खेला जा रहा था. जब बैंक के कैशियर की पोल खुली तो आनन-फानन में उसे सस्पेंड कर दिया गया.

पटना के सिद्धि साईं इंटर प्राइजेज के कर्मचारी ने सेंट्रल बैंक में 16 नवंबर को ढाई लाख, 17 नवंबर को सत्तर हजार, और 18 नवंबर को पचास हजार रुपये के सौ के नोट के तौर पर जमा किए.

उसके बाद काउंटर पर बैठे रमाकांत सिंह नाम के कैशियर ने डिपॉजिट स्लिप में उसे 500 और 1000 के पुराने नोटों में बदल कर दिखा दिया.

जब मामले में शिकायत की गई तो छानबीन शुरू हुई और बैंक के कैशियर रमाकांत सिंह को दोषी पाते हुए सस्पेंड कर दिया गया है.

हालांकि कैशियर का कहना है कि उसने कुछ भी गलत नहीं किया. रमाकांत सिंह के मुताबिक हमारी कोई गलती नहीं है. हमने कुछ नहीं किया है.

वहीं इस मामले में बैंक पूरी तरह से पल्ला झाड़ता नजर आ रहा है. बैंक मैनेजर का कहना है कि मामले में जांच चल रही है और जांच पूरी होने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी.

First published: 19 November 2016, 11:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी