Home » बिहार » Padmavati controversy: Bihar CM Nitish Kumar says film won't release in state after Supreme Court's told politicians not comment on the fil
 

सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बावजूद इस राज्य के सीएम ने पद्मावती पर दिया बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 November 2017, 17:51 IST

एक तरफ़ सुप्रीम कोर्ट ने एक महीने में तीसरी बार विवादों से घिरी फिल्म 'पद्मावती' पर रोक लगाए जाने वाली याचिका को खारिज कर दिया है. याचिका को खारिज करने के साथ ही कोर्ट ने मुख्‍यमंत्रियों और अन्‍य को भी फटकार लगाई है जो बिना फिल्‍म देखे उसके बारे में बयान दे रहे हैं.

कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा है कि सार्वजनिक कार्यालयों में बैठे लोगों को ऐसे मुद्दों पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए. लेकिन नीतीश कुमार ने इससे इतर मंगलवार को फिल्म पर बयान दिया.

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने पटना में कहा कि निर्माता संजय लीला भंसाली की विवादास्पद फिल्म 'पद्मावती' विवाद समाप्त होने तक बिहार में प्रदर्शित नहीं होगी. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फिल्म को लेकर अधिकारियों से कहा कि जब तक विवाद खत्म नहीं हो जाता, यह बिहार में नहीं दिखाई जाएगी.

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को इस फिल्म के बारे में यह तक कह डाला कि जब तक फिल्म से जुड़े लोग चल रहे विवाद पर अपनी सफाई नहीं देते, यह फिल्म बिहार में प्रदर्शित नहीं की जाएगी.

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कहा कि जब तक संजय लीला भंसाली और फिल्म से जुड़े लोग विवाद के संबंध में सफाई नहीं देंगे, यहां कोई फिल्म नहीं चलेगी. इससे पहले सुपौल के छातापुर से भाजपा विधायक नीरज कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री को फिल्म 'पद्मावती' पर बिहार में प्रतिबंध लगाने से संबंधित एक पत्र सौंपा.

विधायक नीरज ने कहा कि इतिहास की किताबों में कहीं भी रानी पद्मावती के नृत्य करने का वर्णन नहीं है, जबकि फिल्म के ट्रेलर में उन्हें नृत्य करते दिखाया गया है. उन्होंने कहा कि इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं की जा सकती. इससे पूर्व कई संगठन 'पद्मावती' फिल्म को लेकर यहां विरोध प्रदर्शन कर चुके हैं. बिहार के मंत्री जय कुमार सिंह और विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू भी इस फिल्म को लेकर विरोध जता चुके हैं.

First published: 28 November 2017, 17:51 IST
 
अगली कहानी