Home » बिहार » Misa Bharti's tweet: No noise over this Sanskari Rarashtravadi bail of BJP MLC Tunna Pandey
 

लालू की बेटी मीसा का ट्विटर पर तंज- 'टुन्ना पांडेय को मिली संस्कारी राष्ट्रवादी बेल'

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:47 IST
(ट्विटर)

राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी डॉक्टर मीसा भारती का एक ट्वीट सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बन गया. दरअसल मीसा ने ट्विटर पर बीजेपी के एमएलसी टुन्ना पांडेय को जमानत मिलने के बाद तंज कसा.

सोमवार को ही ट्रेन में नाबालिग बच्ची से छेड़छाड़ के आरोपी सीवान के एमएलसी टुन्ना पांडेय को जमानत मिली थी. मीसा ने व्यंग भरे लहजे में एक अंग्रेजी अखबार के लेख के साथ ट्वीट करते हुए जमानत मिलने को संस्कारी राष्ट्रवादी बेल बताया.  

आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव की बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने ट्वीट किया, "इस संस्कारी राष्ट्रवादी बेल पर कोई हंगामा नहीं मचा. इस पर न मीडिया और न हैशटैग #justice वाले ट्रेंड कर रहे हैं."

शहाबुद्दीन की जमानत पर विवाद

मीसा भारती के इस ट्वीट को आरजेडी के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को मिली जमानत का विरोध करने के जवाब के रूप में देखा जा रहा है. ट्विटर पर कुछ लोगों ने इस पर प्रतिक्रिया भी जाहिर की.

आदित्य द्विवेदी ने ट्वीट किया, "खुल के बोलिए ना. शहाबुद्दीन की बेल पर काहे इधर-उधर की बातें कर रही हैं. वो तो सबको पता है क्या चल रहा है बिहार में."

जमानत पर पक्ष-विपक्ष में जंग

पटना हाईकोर्ट ने सोमवार को निलंबित बीजेपी एमएलसी टुन्ना पांडेय को नाबालिग से छेड़खानी के मामले में जमानत दे दी है. उन पर 24 जुलाई को पूर्वांचल एक्सप्रेस की एसी बोगी में अपने पिता के साथ सफर कर रही 12 वर्षीया बच्ची से छेड़खानी का आरोप लगा था.

इस मामले में भाजपा ने उन्हें पार्टी से निलंबित करते हुए नोटिस जारी किया था. बिहार में हाल के दिनों में जमानत को लेकर सियासी रस्साकशी तेज हुई है. जेडीयू और आरजेडी के कई नेताओं को मिली जमानत का मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी ने काफी विरोध किया था. इसमें शहाबुद्दीन का मामला काफी चर्चित रहा.

जमानत मिलने के पीछे बीजेपी ने राज्य सरकार पर कमजोर पैरवी की तोहमत मढ़ी थी. हालांकि प्रशांत भूषण की आपत्ति के बाद सुप्रीम कोर्ट में बिहार सरकार ने भी जमानत के खिलाफ अपील की थी, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने शहाबुद्दीन को हाईकोर्ट से मिली जमानत रद्द कर दी थी.

First published: 25 October 2016, 3:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी