Home » बिहार » Weather Forecast for Bihar: It may be heavy rain in Bihar says IMD flood will cause more destruction in 15 districts
 

बिहार में बाढ़ के बीच अब भारी बारिश का अनुमान, 25 लाख से ज्यादा लोग हो सकते हैं प्रभावित

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2020, 8:58 IST

Weather Update for Bihar: बिहार में बाढ़ (Bihar Floods) के बीच एक बार फिर से भारी बारिश (Heavy Rains) का अनुमान है. मौसम विभाग (Department of Meteorological) के मुताबिक, बिहार (Bihar) और नेपाल (Nepal) के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश हो सकती है. जिसके चलते गोपालगंज (Gopalganj) से लेकर कटिहार (Katihar) तक परेशानी और बढ़ जाएगी. बता दें कि उत्तर बिहार (North Bihar) में बाढ़ (Flood) के चलते अब तक 10 लाख लोग प्रभावित हो चुके हैं. बड़ी संख्या में लोगों ने तटबंध व सड़कों पर शरण ले रखी है.

अब भारी बारिश से नदियों (Rivers) का जलस्तर (Water level) और बढ़ा तो प्रभावित होने वालों का आंकड़ा 25 लाख तक पहुंच सकता है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने नेपाल और उत्तर बिहार दोनों ही जगहों पर एक अगस्त तक भारी बारिश का पूर्वानुमान जारी किया है. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, एक अगस्त तक उत्तर बिहार और नेपाल के जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश की आशंका है. उत्तर बिहार में पहले से ही 15 जिलों के 24 रेनगेज स्थलों पर सात नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. इन सात नदियों में करीब दो दर्जन जगहों के तटबंध पर पहले से भारी दबाव बना हुआ है.


Corona Updates: दुनियाभर में अब तक छह लाख 56 हजार से ज्यादा लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1.66 लाख के पार

बता दें कि उत्तर बिहार में प्रमुख सात नदियों का जलग्रहण क्षेत्र नेपाल ही है. ऐसे में आशंका है कि पहले से ही बाढ़ का संकट झेल रहे बिहार के 15 जिलों में पहले से ज्यादा तबाही मच सकती है. इन जिलों के सात नदियों में 29 रेनगेज स्थल है जहां नदी के जलस्तर को मापा जाता है. इनमें से 24 स्थानों पर नदियां पहले से ही खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. जल संसाधन विभाग ने इसकी सूचना सभी जिलों को देते हुए आवश्यक तैयारी के निर्देश जारी किये हैं. उधर बिहार में गंडक नदी भी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. जिससे गोपालगंज के डुमरियाघाट और मुजफ्फरपुर के रेवाघाट पर खतरा पैदा हो गया है.

बारिश-बाढ़ ने असम और बिहार में बरपाया कहर, 20 और लोगों की मौत, उफान पर पूर्वी यूपी की नदियां

बूढ़ी गंडक पूर्वी चंपारण के ललबेगियाघाट, मुजफ्फरपुर के अहिरवलिया और सिकंदरपुर, समस्तीपुर के रोसड़ा और खगड़िया में खतरे के निशान से ऊपर है. वहीं बागमती और अधवारा नदियां ढेंग, सोनाखान, शिवहर के डुब्बाधार, मुजफ्फरपुर के बनीबाद, दरभंगा के हयाघाट, कमतौल और एकमीघाट में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. वहीं कमला नदी मधुबनी के झंझारपुर रेल पुल के पास खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. इसके चलते ऐसा माना जा रहा है कि अगर भारी बारिश होती है तो इन नदियों का जलस्तर और बढ़ जाएगा. जिससे भारी तबाही हो सकती है.

Hanna Tropical Cyclone: कोरोना के बाद अमेरिका में तबाही मचा रहा हन्ना तूफान, तेज हवाओं के साथ हो रही भारी बारिश

First published: 28 July 2020, 8:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी