Home » मूवी रिव्यु » Baazaar Movie review: Saif ali khan and Rohan mehra film Baazaar full of thriller with all about love and money
 

Baazaar Movie review: इस 'बाजार' का इकलौता खिलाड़ी है शकुन कोठारी

दीपाली श्रीवास्तव | Updated on: 26 October 2018, 11:09 IST

फिल्म: बाजार

डायरेक्टर: गौरव के चावला

स्टार कास्ट: सैफ अली खान,राधिका आप्टे,रोहन मेहरा,चित्रांगदा सिंह

रेटिंग: 3 स्टार

फिल्म 'बाजार' के डायरेक्टर गौरव के चावला वैसे तो विज्ञापन इंडस्ट्री के लिए काफी फेमस हैं लेकिन जो वो फिल्म की कहानी लेकर आए हैं. उससे वो दर्शकों का दिल जीत लेंगे. डायरेक्टर गौरव के चावला का फिल्म 'बाजार' से डेब्यू डायरेक्शन किया है और उन्होंने इस फिल्म की कहानी को बेहद संजीदगी से शेयर बाजार और मार्केट के बारे में दिखाया गया है.आइये जानते है फिल्म की कहानी के बारे में...

फिल्म 'बाजार' की कहानी

फिल्म 'बाजार' की कहानी मुंबई के बिजनेसमैन शकुन कोठारी (सैफ अली खान) से शुरु होती है जो कि खुद को शेयर बाजार का राजा मानता है. शकुन कोठारी की पत्नी मंदिरा कोठारी (चित्रांगदा सिंह) हैं. शकुन कोठारी से सभी कारोबारी जलते हैं क्योंकि उसका काम करने का तरीका सबसे अलग है. इसके साथ ही शकुन कारोबार में हर तरह के हथकंडे अपनाता है फिर चाहे वो धोखा हो या झूठ हो. तो वहीं इलाहाबाद का एक लड़का रिजवान अहमद (रोहन मेहरा) अपने सपनों को पूरा करने के लिए मुंबई आता है. रिजवान शकुन को अपना गुरु मानता है और उनसे मिलने और उनके साथ काम करने के लिए वो यहां तक आ जाता है.

रिजवान को शकुन से मिलने के लिए इतना पागल होता है कि वो थूकी हुई कॉफी भी पीने के लिए तैयार हो जाता है और उसे ट्रेंडिंग कंपनी में नौकरी मिल जाती है. इसके बाद एंट्री होती है प्रिया राय (राधिका आप्टे) की जो कि उसी कंपनी में जॉब कर रही होती हैं. प्रिया रिजवान के करीब आती है और उसे शकुन से मिलवाने के रास्ते भी दिखाती हैं लेकिन इसमें प्रिया का भी थोड़ा स्वार्थ होता है. यहां पर शकुन का दिमाग तेज है तो वहीं रिजवान की रफ्तार. जहां शकुन किसी के साथ भी धोखा करने से पीछे नहीं हटता तो क्या वहां वो रिजवान को छोड़ेगा? आगे की कहानी जानने के लिए आपको सिनेमाघर तक का सफर तय करना पड़ेगा.

कैसी है किरदारों की अदाकारी

सबसे पहले आते है सैफ अली खान के किरदार शकुन कोठारी पर जिन्होंने अपने किरदार को बिल्कुल सही ढंग से निभाया है. सैफ के एक-एक एक्सप्रेशंस और एटीट्यूड वाकई इस रोल के लिए कमाल के हैं. कहीं ना कहीं कहा जा सकता है कि सैफ का इस फिल्म से कमबैक है. तो वहीं एक्ट्रेस राधिका आप्टे ने फिर से अपनी अदाकारी से साबित कर दिया है कि उन्हें बेहतरीन अदाकारा क्यों कहा जाता है. बात करें अगर एक्टर रोहन मेहरा की जिनका फिल्म से डेब्यू था तो उनकी एक्टिंग से लग नहीं रहा था कि ये उनकी पहली फिल्म हैं. उनके कई सीन्स ऐसे भी है जो कि आपके दिल को छू लेंगे. वहीं एक्ट्रेस चित्रांगदा सिंह के हिस्से में ज्यादा काम नहीं था लेकिन उनका चेहरा और एक्सप्रेशंस सब कुछ बयां कर रहे हैं.

 

फिल्म के कुछ डायलॉग जो कि सैफ अली खान कहते हैं,"हार और जीत में एक ही फर्क होता है..भूख." तो वहीं दूसरा दमदार डायलॉग है,"मुझे सिर्फ प्रॉफिट में इंटरेस्ट है, नोट का मालिक बनने के लिए उसे कमाना पड़ता है. पैसा उसका है जो धंधा जानता है और मैं हूं धंधो नो गंदो छोकरो." फिलहाल फिल्म की कहानी दमदार है और ये दर्शकों को सिनेमाघरों तक लाने में कामयाब हो सकती है. 

 

 

फिल्म 'बाजार' में डायरेक्टर गौरव के चावला का बेहतरीन कॉन्सेप्ट के साथ उनका ये कमाल का डेब्यू डायरेक्शन हैं. तो वहीं रोहन मेहरा ने भी अपने डेब्यू डायरेक्शन में दमदार एक्टिंग करके साबित कर दिया कि वो आगे भी ऐसे रोल अदा कर सकते हैं. सैफ अली खान की एक इमेज जो कि सेक्रेड गेम्स से बन गई थी सैफ ने उसे बरकरार रखा है. अगर आप सैफ के फैंस है तब तो फिल्म देखने जरूर जाइये लेकिन नहीं है तो भी शेयर बाजार पर बनी फिल्म की कहानी एक बार तो देखनी बनती हैं.

First published: 26 October 2018, 10:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी