Home » मूवी रिव्यु » Gully Boy Movie Review: Ranveer Singh and Alia Bhatt raise the roof with a great musical film is Fantastic
 

Gully Boy Movie Review: मुश्किलों से उठकर ख्वाबों को पूरा करने तक का सफर है 'गली बॉय'

दीपाली श्रीवास्तव | Updated on: 14 February 2019, 10:10 IST
Gully Boy Movie Review

फिल्म: गली बॉय

डायरेक्टर: जोया अख्तर

स्टार कास्ट: रणवीर सिंह,आलिया भट्ट,कल्कि कोचलिन,शीबा चढ्ढा,विजय राज,सिद्धांत चतुर्वेदी,विजय वर्मा,कुब्रा सेठ

रेटिंग: 4 स्टार

आज पूरी दुनिया वेलेंटाइन डे मन रही है और आज के दिन आपको डायरेक्टर जोया अख्तर ने फिल्म 'गली बॉय' का तोहफा दिया है. फिल्म 'गली बॉय' की हम आपको छोटी सी झलक के तौर पर बताने जा रहे है कि आप फिल्म क्यों देखने जाए और रणवीर सिंह की 'गली बॉय' में आखिर है क्या. आइये जानते है फिल्म की कहानी के बारे में-

फिल्म की कहानी-

फिल्म 'गली बॉय'की कहानी मुंबई के धारावी चौल से शुरु होती है जहां पर एक लड़का है जो कि रैपर बनने के ख्वाब देख रहा है और जिसका नाम है मुराद (रणवीर सिंह). मुराद इस चौल में ही पला-बड़ा और अब रैपर बनने के सपनों के साथ गाने लिखता है और कॉलेज में पढ़ाई करता है. मुराद के पिता एक ड्राइवर है और उनके घर के हालात भी मध्यम वर्गीय है. तो वहीं मुराद की गर्लफ्रेंड है सैफीना (आलिया भट्ट) जो कि एक दम सिर से फिरी हुई लड़की है. अगर उसके मुराद को कोई लड़की आंख भर उठाकर देख ले तो उसका सर फोड़ने में भी वो पीछे नहीं है.

 

Gully Boy Movie Review

मुराद के पिता (विजय राज) से उनके विचार कभी नहीं मिलते और उन्हें ये लगता है कि रैपिंग में रखा क्या है और वहीं समाज की पुरानी सोच ड्राइवर के बेटा ड्राइवर ही बनेगा. लेकिन मुराद को तो अपने सपनों के पीछे ही भागना था और इसी के बीच मुलाकात होती है एमसी शेर (सिद्धांत चतुर्वेदी) से और मुराद की जिंदगी बदल जाती है.

फिर शुरु होती है सपनों के पीछे भागने की दौड़ और रैपर बनने का जुनून भरा सफर जो कि मुराद के सामने कई मुश्किलों के साथ आता है. इसी में एंट्री होती है कल्कि (स्काई) की और इसके बाद भी मुरादे के जिंदगी में कई मोड़ आ जाते है और रिश्तों में भी दरारें आ जाती है. अपने रिश्ते,समाज और परिवार के बीच और सपनों का जुनून लिए मुराद कैसे अपने मुकाम पर पहुंचेगा ये देखने के लिए आप थिएटर तक का रास्ता तय कर लें.

किरदारों की अदाकारी-

रणवीर सिंह को तो सलाम, एक बार फिर से रणवीर सिंह ने साबित कर दिखाया है कि वो कुछ भी कर सकते हैं. रणवीर ने अपनी एक हीरो वाली छवि को इस फिल्म में तोड़ दिया है और इसमें उन्होंने गरीबी,परेशानी और सपनों को पूरा करते हुए जो जद्दोजहद अपने किरदार में दिखाई है. उसे शायद ही कोई और बेहतर निभा सकता था. रणवीर सिंह अपने किरदार में इस तरह से डूब चुके थे कि आप खुद को उनसे जुड़ा हुआ पाएंगे. रणवीर को जितनी बार पर्दे पर देखते है तो लगता है कि अब इसका टाइम आ गया लेकिन रणवीर का वक्त काफी पहले ही सुनहरा हो चुका है और अब एक्टर अपनी मेहनत को हर दिन निखार रहे हैं.

 

Gully Boy Movie Review

आलिया भट्ट सफीना के किरदार में छा गई. आलिया हर बार अपनी एक्टिंग से सभी को हैरान कर देती है और इस बार भी उन्होंने कुछ ऐसा ही किया है. आलिया ने अपने सभी पुराने किरदार को इस किरदार से पीछ छोड़ दिया है. तो वहीं कल्कि कोचलिन का किरदार भले ही छोटा था लेकिन दमदार था. कल्कि से आप आसानी से फिल्म में कनेक्ट हो जाएंगे जैसे कि आप उन्हें शुरु से ही फिल्म में देख रहे हो. तो वहीं विजय राज का कोई जवाब नहीं और विजय वर्मा का भी एक्टिंग में कोई तोड़ नहीं है. शीबा चढ्ढा हमेशा से ही अपने किरदार के साथ न्याय करती है और इस बार भी उन्होंने कमाल कर दिया. तो वहीं अब आते है सिद्धांत चतुर्वेदी पर जो कि इस फिल्म से डेब्यू कर रहे हैं लेकिन पूरी फिल्म में कहीं भी नहीं लगता है कि ये उनका डेब्यू है. सिद्धांत के बिना फिल्म अधूरी थी.

Gully Boy Movie Review

क्यों देखें फिल्म-

अगर आप फिल्म 'गली बॉय' को बस एक रैपर और रैप के तौर पर देखने जा रहे है तो थोड़ा ठहरिए. क्योंकि फिर आप खुद को इस फिल्म से जोड़ नहीं पाएंगे. फिल्म में सिर्फ रैप के बारे में बताना काफी मुश्किल होता है और डायरेक्टर ने इस कठिनाई को बेहद आसानी से पार किया है. इसके साथ ही छोटे शहरों में पनपते सपनों को कैसे मुकाम मिलता है और किस तरह की मुश्किलें सामने आती है. ये सब आप इस फिल्म में पाएंगे. तो वहीं अगर आप में जुनून है कुछ कर जाने का तो भी आप इस फिल्म को देखने जाए क्योंकि ये ऐसे लोगों के लिए ही बनी है जो सपनें देखते भी है और उन्हें पूरा करने का दम भी रखते हैं.

Gully Boy Movie Review

फिल्म 'गली बॉय' की खासियत-

फिल्म 'गली बॉय' के सभी गाने बेस्ट है फिल्म भले ही पूरे ढाई घंटे की है लेकिन आप कहीं भी बोर नहीं होंगे. फिल्म का बैकग्राउंड म्यूजिक आपको सीट से बांधे रखेगा. फिल्म के सभी गाने इसकी कहानी से सीधा ताल्लुक रखते हैं. फिल्म में जो डायलॉग है वो आपको जोश से भर देंगे. तो अब 'गली बॉय' का तो टाइम आ गया आप का टाइम कब आएगा थिएटर तक जाने का जल्दी से आज ही अपनी टिकट बुक करिए और फिल्म देखिए. ऐसी फिल्में कभी-कभार ही बनती है जो लोगों की रोजमर्रा जिंदगी से रुबरु कराती है.

Gully Boy Movie Review

डायरेक्टर जोया अख्तर जब भी कोई फिल्म बनाती है तो उसमें अपनी पूरी जान डाल देती है. ऐसा ही कुछ किया उन्होंने फिल्म ‘गली बॉय’ के साथ, जिसमें जोया ने मुंबई की गलियों में रहने वाले कई लोगों के सपनों और जिम्मेदारियों के बोझ की एक कहानी दिखाई है. फिल्म ‘गली बॉय’ को डायरेक्टर ने ऐसे पेश किया है कि इसे देखकर आप कहीं भी बोर नहीं होंगे. इससे पहले जोया ने फिल्म ‘जिंदगी ना मिलेगी दोबारा’,’दिल धड़कने दो’ और ‘लक बाय चांस’ जैसी फिल्में बनाई है और जिसकी कहानी भी लोगों को खूब पसंद आई थी. 

First published: 14 February 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी