Home » मूवी रिव्यु » Manikarnika Movie Review: Kangana Ranaut’s war epic has many moments of genius
 

Manikarnika Movie Review: कंगना रनौत ने अपने किरदार में जीवंत कर दिया झांसी वाली रानी को

दीपाली श्रीवास्तव | Updated on: 25 January 2019, 10:12 IST

फिल्म: मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी

डायरेक्टर: कृष और कंगना रनौत

स्टार कास्ट: कंगना रनौत,अतुल कुलकर्णी,जिस्सु सेनगुप्ता,सुरेश ओबेरॉय,अंकिता लोखंडे,डैनी डेंजोग्पा,जीशान अयूब

रेटिंग: 3.5 स्टार

डायरेक्टर कृष द्वारा डायरेक्ट की गई फिल्म 'मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी ' में उन्होंने एक्ट्रेस कंगना रनौत के रोल में झांसी की रानी को वापस लौटा दिया है. फिल्म की जबरदस्त कहानी के साथ इसे बनाने की जिम्मेदारी कृष और कंगना ने बखूबी निभाई. कृष के साथ एक्ट्रेस कंगना ने भी फिल्म को डायरेक्ट किया है. डायरेक्टर कृष ने फिल्म 'गब्बर इज बैक' से बॉलीवुड की हिंदी फिल्मों में कदम रखा था और 'मणिकर्णिका' उनकी दूसरी फिल्म है. इसके अलावा वो तेलुगु फिल्में बनाते हैं जो कि हिट होती है. फिल्म 'मणिकर्णिका' में डायरेक्टर ने एक-एक किरदार को उसके रोल के लिए परफेक्ट चुना तो वहीं इसकी कहानी और इसे जिस तरह से पर्दे पर फिल्माया गया है वो भी बेहद कमाल है. आइये जानते है फिल्म के बारे में...

फिल्म 'मणिकर्णिका' की कहानी-

फिल्म 'मणिकर्णिका' की कहानी महानायक अमिताभ बच्चन की आवाज के साथ बिठूर से शुरू होती है. जहां पर पेशवा (सुरेश ओबेरॉय) को पानी में पुत्री मिलती है और उसे वो पूरी शिक्षा-दीक्षा के साथ बड़ा करते हैं. जिसका नाम था मणिकर्णिका उर्फ मनु. अपने शौर्य,साहस,स्वाभिमान और सुंदरता से परिपूर्ण मणिकर्णिका झांसी के राजा गंगाधर राव नावलकर (जिस्सु सेनगुप्ता) की पत्नी रानी लक्ष्मीबाई बनती है. झांसी में गौस बाबा (डैनी डेंजोग्पा) अपनी स्वामिभक्ति का परिचय देते हैं तो वहीं झलकरी बाई (अंकिता लोखंडे) की बहादुरी भी खूब जमी है. तो वहीं तात्या टोंपे (अतुल कुलकर्णी) के किरदार में ईमानदारी और बहादुरी का परिचय देते हैं.

 

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई मां बनती है और पूरी झांसी अपने वारिस के आने की खुशी मनाती है. बेटे दामोदर के होने के बाद सभी खुश रहते हैं लेकिन खुशियां ज्यादा दिनों तक नहीं चलती. सदाशिव राव (जीशान अयूब) उनके बच्चे को जहर दे देता है और इसके बाद लक्ष्मी के पति गंगाधर राव का भी देहान्त हो जाता है. फिर निकलती है झांसी की रानी अंग्रेजों से लोहा लेने के लिए. झांसी को बचाने अपनी मातृभूमि की रक्षा करने के लिए मैदान में उतरती हैं विरोधियों में मर्दानी वो झांसी वाली रानी. बाकि 'मणिकर्णिका' अपने दुश्मनों और उनके  ब्रिटिश जनरल रिचर्ड कीप से किस तरह से लोहा लेती है और कैसे उनपर विजयी हासिल करती है इसे जानने के लिए आपको थिएटर जाना पड़ेगा.

किरदारों की अदाकारी-

कंगना रनौत अपनी एक्टिंग से हमेशा ही दर्शकों का दिल जीत लेती है लेकिन इस फिल्म में उन्होंने जो अदाकारी दिखाई है वो कुछ अलग ही है. कंगना के किरदार को देखकर ऐसा लगा कि झांसी की रानी लौट आई है. हर रोल में हर डायलॉग के साथ उनका किरदार खूब कमाल का रहा. पूरी फिल्म कंगना पर ही केंद्रीत थी लेकिन बाकि के किरदार ने बखूबी अपने किरदार को संभाला. जिसमें अंकिता लोखंडे, जीशान अयूब, डैनी डेंजोग्पा, अतुल कुलकर्णी, सभी अपने किरदार में खूब जमे हैं. 

क्यों देखें फिल्म-

फिल्म 'मणिकर्णिका' में आपको कमाल के VFX देखने को मिलेंगे जिस पर डायरेक्टर कंगना और कृष ने कड़ी मेहनत की है. इसके साथ ही फिल्म के दोनों ही पार्ट आपको पलकें झपकाने का मौका नहीं देंगे. फिल्म में डायलॉग है एक कंगना कहती है "जब अपने ही मां को बेच डाले, हे मातृभूमि हम तुम्हें कैसे संभाले." इसके अलावा फिल्म में गाना है 'भारत ये रहना चाहिए' ये गाना फिल्म में एक अलग ही समां बांध देगा. फिल्म 'मणिकर्णिका' को बनाने में काफी मेहनत की गई है और ये फिल्म कई विवादों से जूझते हुए आज रिलीज हो रही है. झांसी की रानी की गौरवगाथा से पूरा इतिहास भरा हुआ है लेकिन इस फिल्म में जिस तरह से कंगना और सभी स्टार्स ने उसे दर्शाया है वो वाकई काबिल-ए-तारीफ है.

ये भी पढ़ें- कपिल शर्मा- गिन्नी का रिसेप्शन होगा दिल्ली में, इस शाही जश्न में पीएम मोदी करेंगे शिरकत!

First published: 25 January 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी