Home » मूवी रिव्यु » Pataakha Review: Sanya malhotra, Radhika madan and Sunil grover Film Pataakha connects the story of India-Pakistan war
 

Pataakha Review: विशाल भारद्वाज की 'पटाखा' दो बहनों की लड़ाई के बहाने दिलाती है भारत-पाकिस्तान के अंतहीन युद्द की याद

दीपाली श्रीवास्तव | Updated on: 28 September 2018, 12:31 IST

फिल्म: पटाखा
डायरेक्टर: विशाल भारद्वाज
स्टार कास्ट: सान्या मल्होत्रा,राधिका मदान, सुनील ग्रोवर,विजय राज, सानंद वर्मा
रेटिंग: 3.5 स्टार

डायरेक्टर विशाल भारद्वाज हर बार कुछ नया करने और नया सेटअप बनाने में विश्वास करतें हैं. इस बार विशाल ने अपनी फिल्म ‘पटाखा’ से दर्शकों को जोड़ने की कोशिश की हैं. विशाल भारद्वाज अपनी आखिरी फिल्म ‘रंगून’ में भी एक नए कॉन्सेप्ट के साथ दर्शकों के बीच आए थे. हालांकि, फिल्म कुछ खास कमाल दिखाने में नाकाम रहीं. फिल्म ‘पटाखा’ को लेकर भी डायरेक्टर एक नया आइडिया लेकर आए है और दो बहनों की कहानी को जमीनी स्तर से जोड़ने की कोशिश की हैं. आइये जानते है फिल्म ‘पटाखा’ की कहानी-

 

फिल्म ‘पटाखा’ की कहानी की शुरुआत राजस्थान के एक छोटे से गांव की मिट्टी से होती है जहां दो बहनें चंपा (राधिका मदान) और गेंदा (सान्या मल्होत्रा) लड़ाई कर रही होती हैं. कहने को दोनों सगी बहनें हैं लेकिन लड़ाई किसी युद्ध से कम नहीं होता है. गांव में रहने वाला डिपर (सुनील ग्रोवर) इन दोनों बहनों को भड़काकर लड़ाई लगवाने का कोई मौका नहीं छोड़ता और इसमें वो खूब मजे भी लेता है. इसके बाद आते हैं फिल्म के चौथे किरदार बापू (विजय राज) पर जो कि अपनी दोनों बेटियों को राजकुमारी की तरह प्यार करते हैं लेकिन इन दोनों की लड़ाई से वो भी तंग हो चुके हैं.

 

दोनों बहनों की लड़ाई कुछ ऐसी है कि चंपा और गेंदा एक दूसरे को फूटी आंख भी नहीं भाती हैं लेकिन इन दोनों की किस्मत दोनों को साथ रखने की जैसे साजिश में रहती हैं. गांव का ही एक अमिर आदमी पटेल (सानंद वर्मा) जो कि दोनों बहनों पर लट्टू हैं और उनके बापू को शादी के लिए मनाता है लेकिन शादी से पहले दोनों बहनें भाग जाती हैं और पसंद के लड़कों से शादी कर लेती हैं. यहां पर उनकी किस्मत दोनों को फिर से मिलाती है और इस बार दोनों जेठानी और देवरानी के रिश्तों में मिल जाती हैं. इस नए रिश्ते में बंधने के बाद क्या तूफान आएगा चंपा और गेंदी के जीवन में इसके लिए आपको फिल्म देखने के लिए सिनेमाघर की दूरी तय करनी पड़ेगी.

 

फिल्म ‘पटाखा’ में एक्टिंग देखें तो एक्ट्रेस सान्या मल्होत्रा और राधिका मदान ने अपने किरदार को ठीक-ठाक निभा लिया हैं. तो वहीं कॉमेडियन और एक्टर सुनील ग्रोवर और एक्टर विजय राज ने अपने किरदार में जान डाल दी हैं. फिल्म की कहानी में दोनों बहनों की लड़ाई को डायरेक्टर ने भारत-पाकिस्तान की लड़ाई से जोड़ दिया है. फिल्म की कहानी थोड़ी कमजोर होने के कारण ये आपको इंटरवल तक थोड़ा बोर कर सकती है.

 

देखें फिल्म 'पटाख़ा' का ट्रेलर-

फिल्म ‘पटाखा’ में एक्टिंग के अलावा अगर बाकि चीजों की बात करें तो फिल्म में तीन गाने डाले गए हैं. तेरा बलमा...पटाखा और गली-गली में कुल्हड़ जिसमें बॉलीवुड सिंगर ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा है. इसी के साथ विशाल भारद्वाज ने पूरा गांव का माहौल और उसी का सेटअप रखा है. फिल्म में हर किरदार देसी अंदाज में हैं और साथ ही सारा सेटअप भी देसी माहौल से आपको जोड़ेगा.

ये भी पढ़ें- Pataakha Trailer: 'पटाख़ा' युद्ध लेकर आए सुनील ग्रोवर बोले- हम रिश्ते चुन सकते हैं लेकिन..

हालांकि, इस खड़ी देसी माहौल को शहरी दर्शक थोड़ा समझने में चकरा सकते हैं. फिल्म में हंसाने वाले कई सीन आएंगे जिनके साथ डायलॉग को कायदे से मैच किया गया है. इसके साथ ही विशाल ने गाली-गलौज से इस फिल्म की कहानी को बचाया है. अगर आप विशाल भारद्वाज की फिल्मों के फैन हैं तो इस फिल्म को देखने का मन बना सकते हैं.

First published: 28 September 2018, 11:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी