Home » मूवी रिव्यु » Pihu Movie Review: Myra vishwakarma as a Pihu just 2 years old girl with most heartbreaking horror
 

Pihu Movie Review: 2 साल की 'पीहू' आपके दिल में बस जाएगी, फिल्म देखकर हो जाएंगे इमोनशल

दीपाली श्रीवास्तव | Updated on: 15 November 2018, 10:24 IST

फिल्म: पीहू

डायरेक्टर: विनोद कापड़ी

स्टार कास्ट: मायरा विश्वकर्मा पीहू, प्रेरणा विश्वकर्मा

रेटिंग: 4

डायरेक्टर विनोद कापड़ी के डायरेक्शन में बनी फिल्म 'पीहू' की कहानी आपको इमोशनल कर ही देगी और इस बात का आश्चर्य होगा कि एक मात्र 2 साल की बच्ची ने किस तरह से किरदार को बखूबी निभाया है. फिल्म को डायरेक्ट करने से लेकर उसकी कहानी लिखने तक का सारा जिम्मा विनोद कापड़ी ने लिया था और ये बेहद ही काबिल-ए-तारीफ है कि छोटी-सी बच्ची पीहू से उन्होंने जबरदस्त एक्टिंग करवाई है. फिल्म 'पीहू' 16 नवंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी और आप जब फिल्म देखने जाएंगे तो सबसे पहले आप ये देखकर चौंक जाएंगे कि कैसे एक बच्ची ने इसमें काम किया है. आइये जानते है फिल्म 'पीहू' की कहानी के बारे में...

 

फिल्म 'पीहू' की कहानी

फिल्म 'पीहू' की कहानी उस शांत सुबह से होती है जहां पिछली रात पीहू (मायरा विश्वकर्मा) का जन्मदिन मनाया गया था. अगली सुबह जब पीहू उठती है तो वो घर में अकेली ना होने के बावजूद अकेली होती है. सबसे पहले प्यारी सी बच्ची अपनी मां (प्रेरणा विश्वकर्मा) को जगाने की कोशिश करती है और जब वो नहीं उठती है लेकिन उसकी मां नहीं जगती है. पीहू को भूख लगती है खाने के लिए वो खुद ऊपर रखी दूध की शीशी को उठाने की कोशिश करती है लेकिन वो गिर जाती है. उसके बाद गैस जलाकर खाना गर्म करती है तो वहीं एक प्रेस भी रखा हुआ है जो कि चल रहा है.

 

पीहू बिल्डिंग की रेलिंग पर लटक जाती है वहां सांसे थम जाती है कि अब गिरी. वो सीन किसी हार्ट अटैक से कम नहीं होता है. अपने आपको फ्रिज में बंद कर लेती है और खाने के लिए सब सामान इधर से उधर करके खाती है छोटी सी पीहू. फिल्म 'पीहू' के सारे सीन्स आपको इतना बैचेन कर देंगे कि आपको लगेगा कि बच्चा ऐसे नहीं करो और अब आगे क्या होगा. इसके साथ ही आप मुश्किल में फंसी पीहू को देखकर गर जाएंगे. इसके साथ ही आपको पूरी फिल्म में सिर्फ दो ही किरदार नजर आएंगे जो कि पीहू और उसकी मां है. फिल्म में पीहू की मां को क्या हुआ है और उसके पापा कहां हैं इस सभी सवालों के जवाब जानने के लिए आपको थियेटर तक जाना पड़ेगा.

 

फिल्म 'पीहू' के बैकग्राउंड सीन्स भी काफी जबरदस्त है और उसका म्यूजिक उस डरावने माहौल को मजबूत करता है. फिल्म को इतनी बारिकी से डायरेक्ट किया है विनोद कापड़ी ने कि वो तारीफ के लायक है. फिल्म की कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है और इस फिल्म की कहानी से लेकर इसके डायरेक्शन तक आपको ये बेहद पसंद आएगी. कैसे एक नन्ही सी बच्ची इस फिल्म में इतना अच्छा रोल प्ले कर रही है.

 

 

 

फिल्म सिर्फ डेढ़ घंटे की है लेकिन आपको थियेटर में पीहू की मासूमियत और उसकी मासूम-सी हरकतें आपको सीट से बांधे रखेंगी. फिल्म डायरेक्टर विनोद कापड़ी ने बड़े ही आराम से बनाई है और फिल्म में पीहू से कम ही एक्टिंग कराई गई है कोशिश की गई है कि बच्ची का असलीपन फिल्म में ज्यादा दिखें और असल में वहीं हुआ है.

फिल्म को विनोद कापड़ी ने डायरेक्ट किया है और सिद्धार्थ रॉय कपूर और रॉनी स्क्रूवाला ने प्रोड्यूस किया है. फिल्म को आपको जरुर देखना चाहिए ऐसी फिल्में बेहद ही कम बनती है फिल्मी जगत में जहां किरदार में आपको असलीपन देखने को मिले एक्टिंग नहीं. इस जरा सी बच्ची की हरकतों से आपको उससे प्यार हो जाएगा.

First published: 15 November 2018, 10:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी