Home » मूवी रिव्यु » Review of the Reviews Underwater thriller ‘The Ghazi Attack’ dives dee
 

Review of the Reviews: नौसेना की बहादुरी की अनसुनी दास्तां है 'द ग़ाज़ी अटैक'

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 February 2017, 12:40 IST
The Ghazi Attack

'द गाजी अटैक' 1971 में भारत पाकिस्तान की लड़ाई में एक गुप्त मिशन की कहानी है. पाकिस्तान की पनडुब्बी पीएनएस गाजी भारतीय नौसेना के सबसे बड़े लड़ाकू बेड़े आईएनएस विक्रांत को तबाह करने निकली है. फिल्म देखने से पढ़ेंं रिव्यू आॅफ द रिव्यू. 

टाइम्स आॅफ इंडिया: भारत पाकिस्तान के बीच हुर्इ पहली अंडरवॉटर वाॅर पर बनी इस बेहतरीन फिल्म को तीन स्टार दिए गए हैं. फिल्म की सिनेमेटोग्राफी कमाल की है. इंटरवल से पहले की मूवी तो आपको इस तरह बांध कर रखेगी कि आप सीट से नहीं उठ सकेंगे. कलाकारों की अदाकारी इस फिल्म की मजबूत कड़ी है.

आजतक: यह फिल्म उस अनसुनी कहानी को दर्शाती है जो शायद बहुत ही कम लोगों को पता है और डायरेक्टर राइटर संकल्प रेड्डी ने बड़े ही अनोखे अंदाज में पूरी कहानी दिखाई है. जिसमें कभी आप इमोशनल होते हैं तो कभी कुर्सी पकड़ के बैठ जाते हैं तो कभी राष्ट्र प्रेम की भावना भी जागृत होती है.फिल्म की सिनेमेटोग्राफी कमाल की है जिसकी वजह से आप सच में पनडुब्बी के भीतर और बाहर होने वाली घटनाओं को महसूस कर पाते हैं.

बाॅलीवुड भास्कर: फिल्म का डायरेक्शन और खासतौर पर वीएफएक्स का काम बहुत ही उम्दा है, जिसके लिए पूरी टीम बधाई की पात्र है. साथ ही स्क्रीनप्ले को बहुत सटीक रखा गया है, जो आपको सोचने पर विवश कर देता है और लगता है कि आपके सामने भारत और पाकिस्तान का डेडली मुकाबला चल रहा है. डायलॉग और सिनेमेटोग्राफी भी काफी अच्छी है. के के मेनन के साथ-साथ अतुल कुलकर्णी ने बहुत ही उम्दा अभिनय किया है. वहीं, राणा दग्गुबती एक बार फिर अच्छी एक्टिंग करते दिख रहे हैं. खासतौर पर उनके और के के मेनन के बीच के सीन्स काफी दिलचस्प हैं.

जनसत्ता: फिल्म के कलाकारों की बात करें तो अतुल कुलकर्णी, के के मेनन और ओम पुरी जैसे मंझे हुए कलाकारों की जानदार परफॉर्मेंस इस फिल्म को और खास बनाती है. राणा दगुबाती का काम भी तारीफ के काबिल है. इस फिल्म तापसी पन्नू भी एक छोटे रोल में नजर आ रही हैं. तापसी का रोल भले ही छोटा है लेकिन यह अपना असर छोड़ता है. वहीं फिल्म के ग्राफिक्स और बैकग्राउंड म्यूजिक भी शानदार है. इस फिल्म में कोई आइटम सॉन्ग नहीं है, ना ही किसी जगह कोई कॉमेडी घुसाने की कोशिश की गई है. 

First published: 17 February 2017, 12:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी