Home » मूवी रिव्यु » Satyameva Jayate Movie Review in Hindi John Abraham Manoj Bajpayee in Prominent role and the Film will fight to Gold on Box Office
 

Satyameva Jayate Review: 'सत्यमेव जयते' में जॉन ने बता दिया कि वाकई अच्छे दिन आ गए हैं लेकिन..

विकाश गौड़ | Updated on: 15 August 2018, 8:25 IST

फिल्म- सत्यमेव जयते
डायरेक्टर- मिलन मिलाप जावेरी
स्टारकास्ट- जॉन अब्राहम, मनोज बाजपेयी और आएशा शर्मा
रेटिंग- 3 स्टार

भ्रष्टाचार के खिलाफ हिंसा के साथ कैसे लड़ा जाता है. यह हम सभी देखते आए हैं. ये आज से नहीं बल्कि कई दशकों से चला आ रहा है. वैसा ही कुछ मिलन मिलाप जावेरी लेकर आए हैं 'सत्यमेव जयते' के साथ. एक्शन थ्रिलर फिल्म 'सत्यमेव जयते' की कहानी में ज्यादा कुछ नया तो है नहीं लेकिन इसका थ्रिलर आपको थोड़ा बहुत पसंद जरूर आएगा.

फिल्म 'सत्यमेव जयते' को देखकर आपको लग जाएगा कि इससे सत्यता कोसो दौर है. क्योंकि यह फिल्म एक ऐसे आदमी की कहानी है जो भ्रष्टाचार करने वाले पुलिसवालों को खत्म करना चाहता है. कई बार लगता भी है कि फिल्म कुछ पुरानी है लेकिन फिल्म के कुछ दमदार डायलॉग हैं, जो फिल्म को आज का दुनिया के बनाते हैं.

जॉन अब्राहम और मनोज बाजपेयी के इर्द गिर्द घूमती फिल्म 'सत्यमेव जयते' में कुछ-कुछ चीजें तो ठीक हैं लेकिन इसमें एक्शन कहीं-कहीं ज्यादा डाल दिया है. इसके अलावा बैकग्राउंड म्यूजिक भी उतना असरदार नहीं हैं. दिलबर-दिलबर गाने से भले ही नोरा फतेही ने समा बांधा हो लेकिन पानियों से गाना उतना मजेदार नहीं रहा.

फिल्म 'सत्यमेव जयते' सच्चाई और बुराई के अलावा आपको देशभक्ति का पाठ पढ़ा सकती है. लेकिन शायद इस फिल्म की देशभक्ति उस समय फीकी पड़ सकती है जब इसकी तुलना आज ही रिलीज हुई अक्षय कुमार की फिल्म 'गोल्ड' से की जाए. क्योंकि गोल्ड की कहानी एक दम देशभक्ति से ओत-प्रोत है. वहीं, 'सत्यमेव जयते' में सच्चाई की लड़ाई है. 

फिल्म 'सत्यमेव जयते' की कहानी

फिल्म 'सत्यमेव जयते' की शुरूआत होती है एक भ्रष्ट पुलिस वाले को वीर यानी जॉन अब्राहम जिंदा जलाते हैं. आगे भी ऐसा ही कुछ होता है लेकिन हर बार वीर अलग तरीके से बार करता है. यहां तक कि एक बार वह फेल हो जाता है लेकिन बाद में उसे भी अंजाम तक पहुंचा देता है और खुद को बड़ी मासूमीयत से बचा लेता है.

2 घंटे से ज्यादा के समय वाली फिल्म 'सत्यमेव जयते' में दिखाया गया है कि वीर हर उस जगह पहुंच जाता है जहां भी कोई पुलिस वाला किसी अपराध या भ्रष्टाचार को अंजाम दे रहा होता है. हालांकि, फिल्म 'सत्यमेव जयते' में एक जबरदस्त ट्विस्ट है, जिसके लिए फिल्म देखी जा सकती है.

फिल्म 'सत्यमेव जयते' में जॉन ही नहीं बल्कि मनोज बाजपेयी के लिए भारी-भरकम डायलॉग्स लिखे गए हैं. दोनों ने ही इन डायलॉग्स को बड़े अच्छे से डिलीवर किया लेकिन थोड़ा बहुत प्लॉट कमजोर होने के नाते कभी कभार ऐसा लगता है कि फिल्म डायलॉग्स के भरोसे ही है. वैसे भी मनोज और जॉन के लिए ये स्क्रिप्ट काफी कमजोर है.

बता दें कि फिल्म 'सत्यमेव जयते' के ट्रेलर में एक डायलॉग था जिसमें जॉन कह रहे हैं कि वाकई में अच्छे दिन आ गए हैं. इस बात से प्रधानमंत्री मोदी के समर्थक नाराज हो गए थे लेकिन फिल्म देखने के बाद आप सच में इस बात को मानेंगे कि वाकई में अच्छे दिन आ गए हैं. ये काम मिलाप जावेरी ने बहुत तरीके से किया है.

डायरेक्टर मिलन मिलाप जावेरी की स्क्रिप्ट और उनके नजरिए दोनों पर कलाकार हाबी दिखे हैं. जॉन अब्राहम ने लीड रोल संभाला है तो वहीं, मनोज बाजपेयी का ईमानदारी और सच्चे पुलिसवाला बनने का किरदार काफी अच्छा है. जॉन कभी टायर फाड़ रहे हैं, तो कभी बुरे लोगों की पिटाई कर रहे है तो वहीं ताजियां करते नजर आ रहे हैं.

ऐंग्री यंगमैन जॉन और टॉप परफॉर्मेंस में मनोज बाजपेयी और न्यूकमर आयशा शर्मा बहुत लकी हैं कि उनको जॉन से संभाल लिया है. हालांकि, डायलॉग्स के मामले में वह थोड़े पिछड़ गई हैं. लेकिन अपने लिमिटेड टाइम में वह बहुत कुछ कर गई हैं, जिससे उन्हें आगे बहुत मदद मिलेगी.

क्यों देखें फिल्म 'सत्यमेव जयते'

अगर आप एक्शन थ्रिलर फिल्म पसंद करते हैं तो फिल्म देख सकते हैं
जॉन अब्राहम के एक्शन के फैन हैं तो फिल्म का टिकट खरीद लीजिए
मनोज बाजपेयी या आएशा शर्मा को और करीब से देखना हैं तो फिल्म देखिए.
सस्पेंस पसंद करते हैं तो भी 'सत्यमेव जयते' देखनी बनती है.

First published: 15 August 2018, 8:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी