Home » बॉलीवुड » abhay deol on film industry zindagi na milegi dobara awards
 

अभय देओल का नेपोटिज्म पर फूटा गुस्सा, कहा- 'ऋतिक को बना दिया लीड और मुझे सपोर्टिंग एक्टर'

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 June 2020, 17:12 IST

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या मामले के बाद सोशल मीडियो पर नेपोटिज्म को लेकर नेपोटिज्म को लेकर नई बहस छिड़ चुकी है. अब एक एक करके स्टार्स नेपोटिज्म की बहस में अपना अपना पक्ष रख रहे हैं. हाल ही में इस बहस में एक्टर अभय देओल abhay deol भी शामिल हो गए हैं. उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टा पर फिल्म इंडस्ट्री के खिलाफ अपनी बात रखी है.

अभय देओल की फिल्म जिंदगी ना मिलेगी दोबारा काफी हिट हुई थी और आज भी लोग इस फिल्म को देखना पसंद करते हैं. अभय देओल ने इस फिल्म का उदाहरण देते हुए नेपोटिज्म की बात कही है. उन्होंने इंस्टा पर एक तस्वीर शेयर करते हुए लिखा- ' फिल्म जिंदगी ना मिलेगी दोबारा 2011 में रिलीज हुई थी, आजकल हर रोज मैं इस फिल्म का नाम मेरे लिए जपता रहता हूं. जब भी मैं बहुत चिंतित या तनाव में रहता हूं तो इस फिल्म को देखता हूं.


मैं यह उल्लेख करना चाहूंगा कि सभी अवॉर्ड फंक्शंस ने मुझे और फरहान को मेन लीड्य से डिमोट किया और हमें सपोर्टिंग एक्टर्स के तौर पर नामांकित किया गया. 'पोस्ट में उन्होंने आगे लिखा- रितिक और कटरीना को एक एक्टर्स इन ए लीडिंग रोल के रूप में नॉमिनेट किया गया था. फिल्म इंडस्ट्री के तर्क से, यह एक आदमी और एक महिला के प्यार में पड़ने वाली कपल्स की फिल्म थी.

सुशांत के लिए भूमि पेडनेकर ने लिखी भावुक कर देने वाली कविता, कहा- तुम याद आओगे SSR

View this post on Instagram

“Zindagi Na Milegi Dobara”, released in 2011. Need to chant this title to myself everyday nowadays! Also a great watch when anxious or stressed. I would like to mention that almost all the award functions demoted me and Farhan from main leads, and nominated us as “supporting actors”. Hrithik and Katrina were nominated as “actors in a leading role”. So by the industry’s own logic, this was a film about a man and a woman falling in love, with the man supported by his friends for whatever decisions he takes. There are many covert and overt ways in which people in the industry lobby against you. In this case it was shamelessly overt. I of course boycotted the awards but Farhan was ok with it. #familyfareawards Very creative artwork @kalakkii

A post shared by Abhay Deol (@abhaydeol) on

जिसमें पुरुष के दोस्त उसे हौंसला देते हैं कि वो अपने प्यार के संबंध में जो भी निर्णय लेगा, दोनों दोस्त उसका साथ देंगे. ऐसे कई गुप्त और ओपन तरीके हैं, जिनसे लोग फिल्म इंडस्ट्री में आपके खिलाफ पैरवी करते हैं. इस मामले में ये इंडस्ट्री बेशर्म था. मैंने बेशक अवॉर्ड्स का बहिष्कार किया, लेकिन फरहान को इससे कोई दिक्कत नहीं है.'इस नोट अंत में अभय देओल ने अपने इस नोट के अंत में व्यंग्य के रूप में लिखा- फैमिलीफेयरवार्डस.

इंस्टाग्राम ने सुशांत सिंह को दी श्रद्धांजलि, 'यादगार' बना दिया उनका अकाउंट

First published: 20 June 2020, 17:12 IST
 
अगली कहानी