Home » बॉलीवुड » Birthday Special: Film Sholay Director Ramesh Sippy truns 72, When Ramesh Sippy said the Film industry will close
 

बर्थडे स्पेशल: जब फिल्म 'शोले' के डायरेक्टर को लगा इंडस्ट्री बंद हो जाएगी

विकाश गौड़ | Updated on: 23 January 2018, 10:50 IST

रमेश सिप्पी को लोग आज एक बेहतरीन डायरेक्टर को तौर पर जानते हैं. बॉलीवुड को उन्होंने 'शोले' जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म तो दी ही है साथ ही 'शान' और 'सीता और गीता' जैसी हिट फिल्में भी बनाकर इंडस्ट्री को दी हैं. रमेश सिप्पी मंगलवार 23 जनवरी को 71 साल के हो गए हैं. उनका कराची में सन 1947 में हुआ था.

रमेश सिप्पी के जन्म के बाद उनका नाम रमेश गोपालदास सिपाहीमालानी रखा गया था लेकिन बाद में बदलकर उन्होंने रमेश सिप्पी रख लिया. बचपन से रमेश को एक्टिंग का शौक था. लिहाज 9 साल की उम्र में उन्होंने फिल्म 'शहंशान' में बतौर चाइल्ड एक्टर पहली बार कैमरे का सामना किया. यह फिल्म 1953 में रिलीज़ की गई थी.

इसके बाद रमेश सिप्पी ने बतौर डायरेक्टर-प्रोड्यूसर काम करना शुरू कर दिया और साल 1971 में फिल्म 'अंदाज़' बनाई. इस फिल्म में दिग्गज एक्चर राजेश खन्ना,शम्मी कपूर और एक्ट्रेस हेमा मालिनी थे.

रमेश सिप्पी ने कई बार अपनी फिल्म 'शोले' से जुड़ी दिलचस्प बातें शेयर की हैं. एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा था कि आज के और 1975 के फिल्म प्रोडक्शन के बजट में कितना बड़ा अंतर आ गया है. यदि इस समय फिल्म शोले बनती तो करीब 150 करोड़ का बजट लगता लेकिन उस समय इस फिल्म को बनाने में 3 करोड़ लगे थे.

अगर इस रकम को हम सन 1975 के लिहाज से देखें तो यह बड़ी रकम थी. इसको लेकर खुद सिप्पी ने कहा था कि उस समय के 3 करोड़ आज के समय में 150 करोड़ से कम नहीं थे.

रमेश सिप्पी ने एक और दिलचस्प किस्सा शेयर करते हुए कहा था, 'मुझे याद है, जब दिलीप कुमार ने एक फिल्म के लिए एक लाख रुपये फीस ली तो हर किसी ने यही कहा कि फिल्म इंडस्ट्री बंद होने वाली है.

उस समय 'शोले' बनाने के लिए मेरे पास पर्याप्त बजट नहीं था. मेरे पास कुछ विचार थे, जिनको मैंने अपने पिता के साथ शेयर किया. मैं भाग्यशाली था कि 'शोले' बनाने के दौरान मेरे पिता साथ थे. मेरे पास इतने पैसे नहीं थे कि मैं इसे बना सकूं.'

बतौर डायरेक्टर उन्होंने फिल्म अंदाज (1971), सीता और गीता (1972), शोले (1975), शान (1980), शक्ति (1982), सागर (1985), जमीन (1987), भ्रष्टाचार (1989), जमाना दीवाना (1995), टीवी सीरियल- बुनियाद में काम किया.

वहीं, बतौर प्रोड्यूसर उन्होंने ब्रह्मचारी (1968), कुछ ना कहो (2003), ब्लफमास्टर (2005), टैक्सी नंबर 9211(2006) और चांदनी चौक टू चाइना का हिस्सा रहे.

First published: 23 January 2018, 10:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी