Home » बॉलीवुड » black buck case: Salman khan found guilty in case saif, tabu, neelam and sonali acquitted
 

काला हिरण मामला: जानें क्यों कोर्ट ने तब्बू, सैफ, नीलम और सोनाली को किया बरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 April 2018, 12:30 IST

दो दशक से चल रहे काला हिरण शिकार मामले में आज जोधपुर कोर्ट ने सलमान खान को दोषी करार कर दिया है. इस केस में सैफ अली खान, नीलम, तब्बू और सोनाली बेन्द्रे भी आरोपी थे जिन्हें कोर्ट ने बरी कर दिया है. गौरतलब है कि ये मामला अक्टूबर 1998 का है. तब ये सभी फिल्म 'हम साथ-साथ हैं' की शूटिंग के सिलसिले में राजस्थान में थे.

सलमान खान और उनके साथियों पर 2 चिंकारा और 3 काले हिरणों (ब्लैक बक) के शिकार का आरोप लगा था. सलमान पर आर्म्स एक्ट के तहत भी केस दर्ज हुआ था. इस मामले में सलमान पर कुल चार केस थे. तीन हिरणों के शिकार के और चौथा आर्म्स एक्ट का. दरअसल, तब सलमान के कमरे से उनकी निजी पिस्टल और राइफल बरामद की गई थीं, लेकिन इन हथियारों की लाइसेंस की मियाद खत्म हो चुकी थी.

ये भी पढ़ें- काला हिरण शिकार केसः सलमान खान दोषी करार, सैफ, तब्बू समेत बाकी आरोपी बरी

सैफ अली, नीलम, सोनाली और तब्बू को संदेह के लाभ पर बरी

कांकाणी गांव शिकार मामले में गवाहों ने कोर्ट में बताया था कि गोली की आवाज सुनकर वे मौके पर पहुंचे थे. शिकार सलमान ने किया था. जीप में उनके साथ सैफ अली, नीलम, सोनाली और तब्बू भी थे. इन पर सलमान को उकसाने का आरोप है. गांव वालों को देखकर सलमान मारे गए हिरणों को वहीं छोड़कर गाड़ी लेकर चले गए थे.

चश्मदीदों के अनुसार सलमान के हाथ में बन्दूक देखि गयी थी, 1 अक्टूबर की रात को जब गांव वाले गोली की आवाज पर पहुंचे तो शिकार छोड़कर जीप में बैठकर शिकारी वापस जाने लगे तो गांव वालों ने सलमान खान को पहचाना और उनके हाथ में बन्दूक भी थी, जिससे ये कहा जा सकता था कि अलमान खान ने ही शिकार किया था. साथियों पर उन्हें उकसाने का आरोप है लेकिन उनको शिकार के मामले में दोषी नहीं करार किया गया. 

सलमान पर कितने मामले

कांकाणी गांव केस: इसी केस में सलमान को गुरुवार को दोषी ठहराया गया. सजा का एलान होना बाकी है.
घोड़ा फार्म हाउस केस: 10 अप्रैल 2006 को सीजेएम कोर्ट ने 5 साल की सजा सुनाई थी. सलमान हाईकोर्ट गए. 25 जुलाई 2016 को उन्हें बरी किया गया. राज्य सरकार ने इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की है.
भवाद गांव केस: सीजेएम कोर्ट ने 17 फरवरी 2006 को सलमान को दोषी करार दिया और एक साल की सजा सुनाई. हाईकोर्ट ने इस मामले में भी सलमान को बरी कर दिया है. राज्य सरकार ने फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की है.

ये भी पढ़ें- सलमान के खिलाफ लड़ने वाले बिश्नोई समुदाय के लोग हिरण को मानते हैं अपना बच्चा

आर्म्स केस:18 जनवरी 2017 को कोर्ट ने सलमान को बरी कर दिया था. राज्य सरकार ने इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील की है.

 

सलमान खान, सैफ अली खान, तब्बू, नीलम, सोनाली बेंद्रे और जोधपुर निवासी दुष्यंत सिंह पर आरोप है कि उन्होंने 1 और 2 अक्टूबर 1998 को जोधपुर में देर रात लूणी थाना इलाके के कांकाणी गांव में दो काले हिरणों का शिकार किया था. मामले में पेश किए गए गवाहों ने कोर्ट को बताया था कि सलमान खान ने हिरणों का शिकार किया तो उस समय ये सभी आरोपी जिप्सी गाड़ी में सवार थे. उन्होंने बताया कि जिप्सी में मौजूद सभी सितारों ने सलमान को शिकार करने के लिए उकसाया था, जिसके बाद गोली की आवाज सुनकर सभी गाववाले वहां एकत्र हो गए थे. गांव वालों के आने के बाद सलमान वहां से गाड़ी लेकर भाग गए थे और दोनों हिरण वहीं पड़े थे.

कितनी सजा हो सकती है?

वाइल्ड लाइफ एक्ट की धारा 149 के तहत काला हिरण का शिकार करने पर अधिकतम 6 साल की सजा हो सकती है. सलमान और बाकी आरोपियों को अगर 3 साल से अधिक सजा होती है तो हर हाल में जेल जाना पड़ेगा. सेशन कोर्ट में अपील दायर कर सजा सस्पेंड करानी पड़ेगी, लेकिन जब तक सेशन कोर्ट से सजा सस्पेंड नहीं होगी, तब तक जेल में रहना पड़ेगा. 3 साल या इससे कम सजा हुई तो उन्हें सेशन कोर्ट से ही बेल मिल सकती है.

First published: 5 April 2018, 12:20 IST
 
अगली कहानी