Home » बॉलीवुड » Flashback 2018: these top hit 5 webseries of 2018 definetely make space in your heart this year
 

Flashback 2018: इस साल कालीन भैया से लेकर गायतोंडे तक ने लोगों के दिलों में किया राज, देखिए ये 5 वेबसीरीज

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2018, 20:29 IST

बॉलीवुड में जहां हर हफ्ते एक फिल्म रिलीज होती है तो वहीं इस साल कुछ ऐसी वेबसीरीज भी रिलीज हुई जिन्होंने लोगों के दिलों पर अपनी छाप छोड़ दी. साल भर लोगों के जुबान पर इन सीरीज के नाम और उनकी कहानी रही. अब साल 2018 खत्म होने जा रहा है और साल 2019 के स्वागत के लिए सभी तैयार हो चुके हैं. इस साल आई कुछ ऐसी सीरीज के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जो कि इस साल बॉलीवुड फिल्मों से ज्यादा छाई रहीं.

करणजीत कौर: द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ सनी लियोनी

बॉलीवुड एक्ट्रेस सनी लियोनी के जिंदगी पर आधारित सीरीज 'करणजीत कौर:द अनटोल्ड स्टोरी' भी रिलीज की गई थी जिसके दो सीजन आए. इस सीरीज में सनी लियोनी नहीं बल्कि करणजीत कौर के जिंदगी पर बनी थी. जब वो पॉर्न स्टार थी और उसके बाद उन्होंने बॉलीवुड इंडस्ट्री में कदम रखा था. सनी लियोनी की फैमिली में मम्मी-पापा और एक भाई है जो कि सभी इस सीरीज में दिखाए गए हैं. इस सीरीज में पहले सीजन में 10 एपिसोड और दूसरे सीजन में 6 एपिसोड आए थे.

घूल

राधिका आप्टे स्टार इस सीरीज में एक ऐसे राक्षस को दिखाया जाता है जो कि किसी ना किसी के रुप में आता ही है. कभी नहीं मरता है और इसी को कहते है घूल. इसमें राधिका आप्टे एक ऑफिसर की भूमिका में हैं जो कि ट्रेनिंग पर है. सीधी सी बात ये थी कि इस सीरीज को देखकर आपको डर लगेगा और ये रोमांचक भी है.

सेक्रेड गेम्स

साल में आई 'सेक्रेड गेम्स' तो सभी को याद ही होगी जिसके गायतोंडे और सरताज सिंह को कोई नहीं भूला होता. मुंबई पुलिस में सरताज सिंह वैसे ही अपनी पर्सनल लाइफ से परेशान है और उस पर उसकी मुश्किलें बढ़ाने के लिए आ जाता है और गणेश गायतोंडे का कॉल उसके जीवन में किसी भूचाल से कम नहीं होता है. नेटफ्लिक्स की इस सीरीज में एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी गायतोंडे के रोल में हैं तो वहीं सरताज का किरदार एक्टर सैफ अली खान ने निभाया. जिसमें कहा जाता है सब मर जाएंगे केवल त्रिवेदी बचेगा और इसके आगे का दूसरा पार्ट इस साल नेटफ्लिक्स पर रिलीज होगा.

मिर्जापुर

कालीन भैया को कोई नहीं भूला होगा और मिर्जापुर शहर के अखंडानंद त्रिपाठी जो कि बादशाह है और उनके बेटे मुन्ना भैया भी राज करना चाहते हैं. तो वहीं गुल्लू और बबलू पंडित भी इसी शहर का हिस्सा और कालीन भैया के नीचे काम कर रहे होते हैं. मिर्जापुर में कालीन भैया का अपना रौला होता है और इसी के साथ ये सीरीज अफ़ेयर, रिलेशन, बदले, धोखे, के रिश्तों की कहानी को भी पिरो के चलती है.

अपहरण

अपहरण जिसे हम किडनैप कहते हैं इस कहानी में इंस्पेक्टर रुद्र श्रीवास्तव होते हैं जो कि ईमानदार पुलिस की नौकरी के चलते तीन साल की सजा काट चुके होते हैं और उसके बाद करतै हैं अपहरण. इस जुर्म में वो अपना और अपनी पत्नी रंजना को सभी मुश्किलों से निकालने का फैसला लेते हैं लेकिन सब उल्टा हो जाता है और वो फंस जाते हैं. अपहरण एक क्राइम-थ्रिलर और संस्पेंस से भरी कहानी है.

First published: 30 December 2018, 20:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी