Home » बॉलीवुड » Hrithik Roshan said I love challenges
 

'मुझे किसी चीज का पछतावा नहीं, जीवन में पसंद हैं चुनौतियां'

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 August 2017, 11:26 IST

अभिनेता ऋतिक रोशन ने पर्दे पर एक विकलांग व्यक्ति से लेकर एक मानसिक रोगी तक के कई किरदार निभाएं हैं और वह कहते है कि उन्हें कैमरे के पीछे जाने से भी कोई परहेज नहीं है क्योंकि उन्हें चुनौतियां पसंद हैं.

भविष्य में निर्देशन के क्षेत्र में जाने के प्रश्न पर उन्होंने बताया, 'मुझे अभिनय से प्रेम है. यह मेरा जुनून है. हो सकता है कभी मुझे लगे कि यह कैमरे के पीछे जाने का सही समय है, मैं जरूर जाऊंगा. मैं ऐसा व्यक्ति हूं जिसे चुनौतियां पसंद हैं.'

फिल्मकार राकेश रोशन के पुत्र ऋतिक ने 2000 की हिट फिल्म 'कहो ना प्यार है' से बॉलीवुड में पदार्पण किया था. हिंदी फिल्मों में एक दशक से भी अधिक समय से काम कर रहे ऋतिक ने 'कभी खुशी कभी गम', 'कोई मिल गया', 'क्रिश', 'धूम 2', 'जोधा अकबर' और 'गुजारिश' जैसी फिल्में की हैं.

ऋतिक ने कहा, 'मुझे अपना डेब्यू किए 17 साल हो चुके हैं और जब मैं पीछे मुड़ कर देखता हूं तो मुझे उन दिनों की बहुत याद आती है. मुझे बॉलीवुड ने काफी कुछ सिखाया है और मुझे एक बेहतर इंसान बनने में मदद की है. मेरे करियर में मुझे काफी पुरस्कार मिले हैं और मैं हर पल को संजो कर रखता हूं.'

इस सफर के दौरान क्या कुछ ऐसा जिसे वह बदलना चाहते हैं, इस पर ऋतिक ने कहा, 'नहीं, बिल्कुल नहीं! मेरा अब तक का सफर बहुत शानदार रहा है और मुझे उम्मीद है कि आने वाले समय में मुझे और सफलताएं प्राप्त होंगी. मैं अब तक कुछ सबसे बेहतरीन फिल्मों का हिस्सा रहा हूं और मुझे सबसे प्रतिभाशाली लोगों के साथ काम करने का मौका मिला है.' 43 साल के ऋतिक कहते है कि वह अपने पेशेवर जिंदगी में कोई बदलाव नहीं लाना चाहते हैं. दो बच्चों के पिता ऋतिक कहते हैं, "मुझे किसी प्रकार का कोई पछतावा नहीं है और मैं कुछ भी बदलना नहीं चाहूंगा.'

यह पूछे जाने पर कि क्या वह मानते हैं कि बॉलीवुड में एक नए दौर की शुरूआत हो रही है जहां संदेश और मुद्दों को उठाने वाली फिल्में व्यवसायिक फिल्मों को पीछे छोड़ रही हैं, ऋतिक ने कहा, 'भारतीय सिनेमा विश्व में सबसे बड़ा है और हमेशा समय की कसौटी पर खरा उतरा है जो इसे अतुल्य बनाता है.' वह मानते हैं कि दर्शकों पर फिल्मों का बहुत असर पड़ता है.

उन्होंने कहा, 'सिनेमा मनोरंजन का सबसे बड़ा माध्यम है और यह लोगों पर बहुत बड़ा प्रभाव डालता है. आज के समय में फिल्में दर्शकों तक संदेश पहुंचाने का सबसे शक्तिशाली माध्यम हैं.' खेलकूद को पसंद करने वाले ऋतिक ने कहा, 'यह आपको अनुशासित और फिट रहना सिखाता है. मैं समझता हूं कि आज के समय में खेलों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर काफी महत्व दिया जा रहा है.'

First published: 28 August 2017, 11:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी