Home » बॉलीवुड » Karni Sena protesters allege wrong facts were being depicted in film Padmavati
 

जयपुर: पद्मावती के सेट पर करणी सेना का उपद्रव, संजय लीला भंसाली से मारपीट

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 January 2017, 10:26 IST
(एजेंसी)

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती पर विवाद बढ़ गया है. राजस्थान के जयपुर में चल रही फिल्म की शूटिंग के दौरान उस वक्त अफरा-तफरी मच गई, जब राजपूत करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फिल्म के सेट पर तोड़फोड़ की.

करणी सेना का आरोप है कि फिल्म पद्मावती में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है. जयपुर के ऐतिहासिक जयगढ़ किले में फिल्म की शूटिंग चल रही थी. इसी दौरान वहां पहुंचे करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने उपद्रव मचाते हुए फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली से भी अभद्रता की. 

भंसाली को मारा थप्पड़, कपड़े फाड़े 

करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने किले में मौजूद शूटिंग उपकरणों को उठाकर फेंकना शुरू कर दिया. इस दौरान भंसाली पर भी हमला बोल दिया गया. बताया जाता है कि भंसाली को थप्पड़ और घूंसे तक मारे गए. हाथापाई के दौरान किसी ने उनके बाल नोच लिए.

सेट पर मचे हंगामे के बाद फिल्म की शूटिंग रोक दी गई. भंसाली ने जब हंगामे को रोकने की कोशिश की तो करणी सेना के लोगों ने उनके कपड़े भी फाड़ दिए. करणी सेना ने इससे पहले आशुतोष गोवरिकर की फिल्म जोधा अकबर को लेकर भी राजस्थान ंमें काफी हंगामा मचाया था. 

चित्तौड़ की रानी पद्मावती पर फिल्म!

फिल्म पद्मावती में दीपिका पादुकोण मुख्य भूमिका निभा रही हैं. कहा जा रहा है कि फिल्म में चित्तौड़ की रानी पद्मावती और दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी से जुड़े ऐतिहासिक प्रसंग को लिया गया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक फिल्म में दीपिका ने पद्मावती और रणवीर सिंह ने अलाउद्दीन खिलजी का किरदार निभाया है.

कुछ इतिहासकारों के मुताबिक अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को हासिल करने के लिए चित्तौड़ के राणा रतन सिंह से युद्ध किया था. युद्ध में अलाउद्दीन की जीत हुई, लेकिन वह पद्मावती को हासिल नहीं कर सका, क्योंकि रानी पद्मावती ने राजपूत स्त्रियों के साथ चित्तौड़ के किले के अंदर ही जौहर (आत्मदाह) कर लिया. उस दौर में जौहर राजपूतों में काफी प्रचलित प्रथा थी. 

हालांकि कई इतिहासकार इसके विपरीत दावा करते हैं कि पद्मावती एक काल्पनिक चरित्र है, जिसका जिक्र 16वीं सदी के भक्ति धारा के कवि मलिक मुहम्मद जायसी की रचना पद्मावत में मिलता है. पद्मावत का रचनाकाल 1540 का बताया जाता है.

First published: 28 January 2017, 10:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी