Home » बॉलीवुड » Javed Akhtar says linking and discussion about Ramzan and elections totally disgusting
 

लोकसभा चुनाव की तारीखों पर पर्सनल लॉ बोर्ड ने जताई आपत्ति, तो जावेद अख्तर ने कहा- ये बहस करना है घिनौना

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 March 2019, 10:10 IST
Javed Akhtar

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है और ये चुनाव 7 चरणों में होंगे. तो वहीं इन तारीखों के ऐलान के बाद ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और ऑल इंडिया मुस्लिम वूमेन पर्सनल लॉ बोर्ड के पदाधिकारियों ने आपत्ति जाहिर की है और उनका कहना है कि मई में रमजान के दौरान लोकसभा चुनाव की तारीखें क्यों रखी गई. इस बात को लेकर मई में रमजान के दौरान होने वाले लोकसभा चुनाव की तारीखें बदलने की मांग भी की है. इस पर बॉलीवुड गायक और कवि जावेद अख्तर ने इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कुछ कहा है. 

जावेद अख्तर ने कहा,"मुझे रमजान और चुनावों के बारे में हो रही बहस घिनौना लगता है. यह धर्मनिरपेक्षता का विकृत और विक्षेपित संस्करण है, जो मेरे लिए प्रतिकारक, विद्रोही और असहनीय है. चुनाव आयोग को इस पर विचार नहीं करना चाहिए."

अरबाज से तलाक पर फिर से बोलीं मलाइका अरोड़ा, कहा- इस फैसले के बाद मुझे समझ आया..

फिलहाल,चुनाव आयोग ने रमजान के महीने में चुनाव कराने के फैसले पर उठ रहे सवालों को मना करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव कार्यक्रम में खास त्योहार और शुक्रवार को ध्यान में रखा गया है. तो वहीं ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ कार्यकारिणी सदस्य और लखनऊ के शहर काजी मौलाना रशीद फरंगी महली ने 6 मई से 19 मई के बीच होने वाले चुनाव प्रोग्राम को लेकर कहा कि 5 मई को मुस्लिमों के सबसे पवित्र महीने यानि रमजान का चांद देखा जाएगा. फिर भी उन्होंने चुनाव आयोग से मांग की है कि वह मई माह में होने वाले मतदान की तारीखें बदलने पर विचार करे.

First published: 12 March 2019, 10:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी