Home » बॉलीवुड » Kangana ranaut film Manikarnika: The Queen of Jhansi suffers due to love affair, jayshri mishra book revealed rani laxmibai and robert affai
 

इस ब्रिटिश अफसर से प्यार करती थीं रानी लक्ष्मीबाई!

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 February 2018, 18:05 IST

बॉलीवुड 'क्वीन' कंगना रनौत एक बार फिर सुर्खियों में हैं. इस बार वह अपने किसी आपसी विवाद से नहीं है बल्कि अपनी अपकमिंग फिल्म की वजह से है. कंगना की अपकमिंग फिल्म का नाम 'मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' है, जिस पर बवाल के बादल छाए हुए हैं. पद्मावत के बाद एक बार फिर कोई इतिहास पर आधारित फिल्म विवादों का हिस्सा है.

 

संजय लीला भंसाली फिल्म 'पद्मावत' के बाद एक बार फिर राजस्थान से फिल्म के विरोध का मामला सामने आया है. यहां सर्व ब्राह्मण महासभा ने फिल्म 'मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' में रानी लक्ष्मीबाई की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाया है. इस बारे में कहा कि कंगना की फिल्म में लक्ष्मीबाई के ब्रिटिशर के साथ लव सीक्वेंस को दिखाया गया है.

 

10 साल पहले यूके बेस्ड एक जयश्री मिश्रा नाम की एक राइटर ने 'रानी' नाम की एक किताब लिखी थी. जयश्री ने अपनी इस किताब में रानी लक्ष्मीबाई और झांसी के तत्कालीन राजनीतिक एजेंट रॉबर्ट एलिस के बीच अफेयर की चर्चा की है. इस किताब को उन्होंने एक ऐतिहासिक फिक्शन और प्रेम कथा बताया है. इसके अलावा लेखिका ने इस बात को भी साफ किया है कि इस किताब से भारतीय लोगों की भावनाएं आहत हो सकती हैं.

 

जयश्री ने अपनी इस किताब में दोनों की प्रेम कहानी को लेकर खूब लिखा है. जयश्री ने लिखा है, 'लक्ष्मीबाई के साथ बढ़ती दोस्ती के चलते रॉबर्ट एलिस की शिकायत ईस्ट इंडिया कंपनी तक पहुंची. अंग्रेजों ने रॉबर्ट को लक्ष्मीबाई के साथ दोस्ती के लिए डांटा. जिसके कारण रॉबर्ट को इस्तीफा तक देना पड़ा था. वहां से इस्तीफा देने के बाद वह रानी लक्ष्मीबाई के दरबार में आए, लेकिन जब लक्ष्मीबाई को रॉबर्ट के जाने का पता चला तो वह खूब रोईं.' इसके अलावा जयश्री की इस किताब में एक जगह रॉबर्ट और लक्ष्मीबाई की पहली मुलाकात का भी जिक्र है. जिसमें कहा गया है 'रॉबर्ट ने जब रानी लक्ष्मीबाई की पहली मुस्कान देखी तो वह मंत्रमुग्ध हो गया था.'

ये भी पढ़ेंः पद्मावत के बाद कंगना की 'मणिकर्णिका' पर बवाल शुरू

साथ ही एक जगह दोनों की घुड़सवारी का वर्णन भी लेखिका ने इस किताब में किया है. रानी लक्ष्मीबाई ने रॉबर्ट से कहा था, "मैं रोज सुबह यहां पर घुड़सवारी करने के लिए आने की कोशिश करती हूं. अगर तुम भी यहां घुड़सवारी के लिए आने का समय निकालोगे तो मुझे अच्छा लगेगा." बाद में दोनों साथ में घुड़सवारी करने लगे. पति के निधन के बाद लक्ष्मीबाई अकेली पड़ीं और इस बीच रॉबर्ट के साथ उनकी मित्रता घनिष्ठ होती गई. घुड़सवारी के अलावा दोनों अक्सर जंगलों में कभी सुबह कभी शाम को मिला करते थे.

 

किताब में इस बात का भी बखूबी जिक्र किया गया है कि दोनों की दोस्ती की बात सिर्फ रानी लक्ष्मीबाई का सहायक सुंदर को पता था. जयश्री मिश्रा ने इस किताब में रानी और एलिस के बीच निजी पलों का भी जिक्र किया है. गौरतलब है कि जयश्री मिश्रा की इस विवादित किताब को साल 2008 में यूपी की तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने बैन कर दिया था. क्योंकि लोगों ने इसे झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का अपमान बताया था. हालांकि ऑनलाइन साइट्स पर यह किताब अभी भी आसानी से खरीदी जा सकती है.

रितिक रोशन की फिल्म 'सुपर 30' का फर्स्ट लुक सोशल मीडिया पर छाया

अपनी 'रानी' नाम की किताब के इंट्रोडक्शन में जयश्री ने साफ-साफ लिखा, "इस किताब में लिखी गई कहानी कई भारतीयों को आहत कर सकती है. लेकिन मुझे यह कहने में संकोच नहीं है कि मैंने एक योद्धा के पीछे छिपी नारी की खोज की."

First published: 6 February 2018, 18:05 IST
 
अगली कहानी