Home » बॉलीवुड » kanpur kshatriya mahasabha will give prize money 1 cror rupees who will cut nose and ears of deepika padukone, karni sena, sanjay leela bhan
 

दीपिका पादुकोण को 'शूर्पणखा' बनाने के लिए क्षत्रिय महासभा दे रहा 1 करोड़ रुपए

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 January 2018, 11:55 IST

संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत को लेकर देश भर में करणी सेना उपद्रव कर रही है. करणी सेना ने पद्मावत के जरिए उनकी भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया है. इसी बीच फिल्म में महारानी पद्मावती का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस दीपिका पीदुकोण को लेकर क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष ने विवादास्पद बयान दिया है. क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष गजेंद्र सिंह ने कहा है कि क्षत्रिय समाज दीपिका पादुकोण के नाक-कान काटकर लाने वाले को 1 करोड़ का ईनाम देगा.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, कानपुर क्षत्रिय महासभा के संगठन मंत्री गजेंद्र सिंह चौहान ने कहा है कि जो भी दीपिका पादुकोण के नाक-कान काटने का काम करता है, उसे इनाम दिया जाना चाहिए. गजेंद्र ने बकायदा कार्यकर्ताओं के साथ मीडिया के सामने इसका ऐलान किया.

 

गजेंद्र ने कहा, ''दीपिका पादुकोण को सोचना चाहिए महारानी पद्मावती के बारे में ऐसा करते हुए. यह नाचने गाने वाली और आधे कपड़े पहनने वाली महारानी का रोल कर रही है. उसे शर्म आनी चाहिए. शूपर्णखा की नाक-कान लक्ष्मण जी ने काटी थी. दीपिका के नाक-कान काटने की धमकी जो दे रहा है, वह जरूर काटे. मैं भी ऐसा ही चाहता हूं. उसको इनाम मैं भी दूंगा और पूरे कानपुर के क्षत्रिय समाज को आगे आकर सहयोग करना चाहिए. ऐसा करने वाले को करोड़ों का इनाम दिया जाएगा.''

देशभर में गुरुवार को पद्मावत 4000 से ज्यादा स्क्रीन्स पर रिलीज हुई है. दोपहर तक करीबन 10 लाख लोगों ने फिल्म देख ली थी. वहीं, कुल मिलाकर पहले दिन 35 लाख लोगों के इस फिल्म को देखने का अनुमान है. बुधवार को पद्मावत का पेड प्रिव्यू आयोजित किया गया था. इस पेड प्रिव्यू में फिल्म ने देशभर में 5 करोड़ रुपये का कारोबार किया. स्पेशल पेड प्रिव्यू का शो रात साढ़े 9 बजे था.

इसके पहले संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत भारी विरोध प्रदर्शन के चलते 25 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज हो गई. करणी सेना के विरोध प्रदर्शन के चलते फिल्म को चार राज्यों हरियाणा, मध्यप्रदेश, गुजरात और राजस्थान में बैन लगा दिया गया था, लेकिन फिल्म में कुछ संसोधन होने पर सेंसर बोर्ड से इसे हरी झंडी मिलने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों के बैन को हटा दिया था.

First published: 26 January 2018, 11:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी