Home » बॉलीवुड » Madhur Bhandarkar talks about kulbhudhan jadhav case he appalling to Human Rights activists, liberals, and film fraternity.
 

'कुलभूषण जाधव पर फिल्म इंडस्ट्री की चुप्पी भयावह'

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 December 2017, 18:37 IST

नेशनल अवॉर्ड विजेता फिल्ममेकर मधुर भंडारकर ने पाकिस्तान में कैद कुलभूषण जाधव की मां व पत्नी के साथ वहां किए गए बर्ताव पर मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, उदारवादियों और फिल्म बिरादरी के सदस्यों की 'चुप्पी' की बुधवार को निंदा की है. इस बारे में मधुर भंडारकर ने एक ट्वीट किया है,

मधुर भंडारकर ने अपने इस ट्वीट में कहा है, "यह परेशान करने वाला है जिस तरह कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी को पाकिस्तान में अपमानित किया गया, इससे भी अधिक भयावह इस मामले में मेरे फिल्मोद्योग के साथियों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, उदारवादियों की चुप्पी है."

कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी जाधव से मुलाकात करने के लिए इस्लामाबाद गईं थीं. वहां पाकिस्तान ने कुलभूषण व उनके परिजनों के बीच एक कांच की दीवार लगा दी यहां तक कि बात भी इंटरकॉम के जरिये कराई गई.

गजब तो तब हुआ जब जाधव की पत्नी और मां की चूड़ियां, पैरों में पड़े जूते, सुहाग की निशानी मंगलसूत्र, बिंदी तक उतरवा दी गईं. साथ ही कपड़े बदलने का फरमान भी उनको मजबूरीवश सुनना पड़ा. भारत ने इस पूरे प्रकरण की निंदा की है.

First published: 27 December 2017, 18:37 IST
 
अगली कहानी