Home » बॉलीवुड » Meena Kumari Birthday Special Meena Kumari Kamal Amrohi love Story secrets
 

मीना कुमारी को कमाल अमरोही से 2 घंटे में करनी पड़ी थी शादी, इस बात का सता रहा था डर

विकाश गौड़ | Updated on: 1 August 2018, 11:07 IST

बॉलीवुड घराने की खूबसूरत एक्ट्रेस मीना कुमारी ने भले ही बतौर एक्ट्रेस अपनी अच्छी खासी पहचान बनाई थी लेकिन उनका जीवन बहुत ही कष्टदाई रहा था. एक अगस्त 1931 को जन्मीं मीना कुमारी का 41 साल की उम्र में निधन(31 मार्च 1972) हो गया. लेकिन इतनी से उम्र ने मीना कुमारी ने खुद को अपनी संजीदगी से भरे किरदारों को हमेशा के लिए अमर कर दिया. मीना को ट्रैजडी क्वीन भी कहा जाता है.

जिस तरह दिवंगत एक्ट्रेस श्रीदेवी ने महज चार साल की उम्र से एक्टिंग शुरू की उसी तरह मीना कुमारी ने भी सात साल की उम्र से फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था. उस जमाने के दिग्गज फिल्म मेकर कमाल अमरोही मीना कुमारी की अदाकारी से प्रभावित थे. अमरोही मीना कुमारी को अपनी फिल्म में लेना चाहते थे, लेकिन एक वजह थी कि वो उनके साथ काम करना नहीं चाहती थीं.

दरअसल, मीना कुमारी को कमाल अमरोही का अक्खड़ स्वभाव पसंद नहीं था. यही कारण था कि मीना ने उनके साथ फिल्म करने से साफ इनकार कर दिया था. लेकिन पिता के सामने उनकी एक नहीं चली और दबाव में आकर मीना कुमारी ने कमाल अमरोही के साथ ये फिल्म की. हालांकि ये फिल्म पूरी नहीं बन सकी लेकिन इस बीच कमाल अमरोही मीना कुमारी के दीवाने हो गए.

देखते ही देखते कमाल अमरोही के लिए मीना कुमारी के सीने में भी प्यार की लौ जलने लगी. कुछ समय बाद मीना कुमारी ने अमरोही के प्यार को स्वीकार कर लिया. बावजूद इसके मीना कुमारी कमाल अमरोही से शादी नहीं कर सकती थीं, क्योंकि कमाल पहले से ही शादीशुदा थे. लेकिन बाद में जब दोनों की मोहब्बत परवान चढ़ी तो फिर बिना शादी के नहीं रह पाए. आज गूगल ने भी मीना कुमारी के जन्मदिन पर डूडल बनाया है.

इस बीच मीना कुमारी के पिता जिन्होंने कमाल अमरोही के साथ फिल्म करने के लिए कहा वो इस शादी के खिलाफ हो गए. उस दौरान कमाल के एक दोस्त ने मीना कुमारी को यह कहकर राजी कर लिया कि कमाल और तुम निकाह कर लो और सही वक्‍त देखकर अब्‍बा-अम्‍मी को मना लेंना. दोनों ने सब तय किया और 14 फरवरी, 1952 को कमाल-मीना ने निकाह कर एक दूसरे को कबूल कर लिया.

कमाल अमरोही और मीना कुमारी के निकाह की कहानी इस लिए भी दिलचस्‍प है क्योंकि इस कबूलनामें में केवल दो घंटे का समय लगा था. दरअसल, जिस क्लीनिक में मीना कुमारी की फिजियोथेरेपी चल रही थी, वहां पिता अली बख्‍श रोज मीना को रात आठ बजे उनकी बहन मधु के साथ छोड़ देते थे और दस बजे लेने पहुंच जाते थे. इन्हीं दो घंटों में कमाल और मीना ने निकाह कर लिया. 

प्लान के मुताबिक कमाल अमरोही अपने मैनेजर दोस्‍त, काजी और काजी के दो बेटों के साथ तैयार थे. मीना कुमारी के पिता अली बख्‍श के जाते ही सब तय समनुसार क्लीनिक पर पहुंचे. काजी ने फौरन कमाल और मीना का निकाह पढ़ना शुरू कर दिया. इस बीच काजी के दो बेटों और कमाल के मैनेजर दोस्‍त ने गवाही देकर निकाहनामे को पक्का कर दिया. लेकिन दोनों के ही परिवारवालों ने इस शादी को कभी स्वीकार नहीं किया.

आखिरकार जब रोज की बातों से कमाल अमरोही तंग आ गए तो उन्होंने मीना कुमारी को खत लिखा. कमाल ने मीना को लिखे खत में कहा कि वे इस शादी को एक हादसा मान लें. इसका जवाब भी मीना ने दिया और कहा कि वे(कमाल) उन्हें कभी नहीं समझ पाए, न आगे समझ पाएंगे, अच्छा होगा कि वे उन्हें तलाक दे दें. हालांकि बाद में मीना कुमारी ने कमाल से इस खत के लिए माफी मांग ली.

First published: 1 August 2018, 11:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी