Home » बॉलीवुड » Om Puri: After controversial statement about soldiers veteran actor wept
 

फ़ौज मेें जाने की चाहत रखने वाले ओम पुरी जब फ़ौजी के घर फफक पड़े

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 January 2017, 12:29 IST

समकालीन सिनेमा की बड़ी शख्सियत ओम पुरी का असमय गुजर जाना लोगों को स्तब्ध कर गया. हाल ही में ओम पुरी एक बयान को लेकर सुर्खियों में रहे थे. अक्टूबर 2016 में अभिनेता ने एक टीवी कार्यक्रम के दौरान शहीद जवानों पर टिप्पणी की थी. खास बात यह है कि एक समय ओम पुरी खुद भी फौज में जाने की चाहत रखते थे.

जब ओम पुरी उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में एक शहीद जवान के परिजनों से मिलने पहुंचे, तो वह फूट-फूटकर रो पड़े थे. ओम पुरी इस दौरान कदर दुखी नजर आए कि जवान के परिवार वालों को ही उन्हें संभालना पड़ा था.

दरअसल ओम पुरी इटावा में शहीद जवान नितिन यादव के घर पहुंचे थे. इस दौरान जब बॉलीवुड अभिनेता उनके परिजनों से मुलाकात करते हुए जवान के बारे में बात कर रहे थे, तभी वो अचानक भावुक हो गए. अपनी संवेदनाओं पर ओम पुरी काबू नहीं पा सके और उनकी आंखों से आंसू बह पड़े. जम्मू-कश्मीर के बारामूला में हुए आतंकी हमले में नितिन कुमार यादव शहीद हो गए थे.  

'हमने फोर्स किया था फौज में जाओ'

दरअसल एक निजी समाचार चैनल पर कार्यक्रम के दौरान ओम पुरी ने विवादास्पद बयान देते हुए कहा था, ''कौन जबरदस्ती लोगों को फौज में भेजता है? हमने किसी जवान को फोर्स किया था कि फौज में जाओ.'' 

टीवी चैनल के कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए ओम पुरी ने कहा था, "भारत और पाकिस्तान को इजराइल और फिलिस्तीन न बनाएं. कुछ लोग देश के मुस्लिमों को भड़काने का काम कर रहे हैं." अभिनेता ने कहा था कि कला और राजनीति को एक-दूसरे से अलग रखना चाहिए और पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन लगाने से दोनों देशों के हालात में कोई बदलाव नहीं आएगा.

ओम पुरी ने साथ ही कहा था, "पाक कलाकार हमारे देश में कोई गैर कानूनी तरीके से काम नहीं कर रहे हैं और उन्हें वापस भेजने से उन भारतीय फिल्म निर्माताओं को काफी नुकसान होगा, जिन्होंने उन कलाकारों को अपनी फिल्मों में ले रखा है." 

First published: 6 January 2017, 12:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी