Home » बॉलीवुड » Padmaavat unites BJP, Hardik Patel and Alpesh Thakor after demands ban of Sanjay Leela Bhansali’s film, congres
 

भाजपा, हार्दिक और अल्पेश को मिलाने का काम पद्मावत ने कर दिखाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 January 2018, 12:01 IST

गुजरात चुनाव से पहले जिन तीन लोगों ने भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सबसे ज्यादा परेशान किया था उसमें गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी का नाम शामिल है. लेकिन संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म पद्मावत ने गुजरात चुनाव के एक महीने के भीतर ही हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर को अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा को सपोर्ट करने का मौका दे दिया.

संजय लीला भंसाली की फिल्‍म पद्मावत आज 25 जनवरी को बड़े पर्दे पर आ गई. राजपूत समाज विशेषकर करणी सेना की ओर से फिल्‍म का हिंसक विरोध प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ है. राजस्‍थान, हरियाणा, बिहार, जम्‍मू-कश्‍मीर जैसे राज्‍यों में थियेटर्स के भीतर तोड़फोड़ की गई है और बवाल किया गया. गुरुग्राम के सोहना रोड पर प्रदर्शनकारियों ने बस फूंक दी और पत्‍थरबाजी की.

 

वहीं हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और भारतीय जनता पार्टी तीनों का मानना है कि पद्मावत फिल्म से विशेष समुदाय के लोगों की भावनाएं आहत हो रही हैं. गुजरात, राजस्थान, हरियाणा और मध्यप्रदेश की भारतीय जनता पार्टी की सरकार भी अप्रत्यक्ष रूप से पद्मावत फिल्म का विरोध कर रही है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों में फिल्म रिलीज करने का आदेश दिया है जिसकी वजह से भाजपा की सरकारें खुलेआम फिल्म का विरोध नहीं कर पा रही हैं.

इससे पहले पद्मवात के विरोध में गुजरात में आगजनी की बड़ी घटना सामने आई थी. गुजरात की राजधानी अहमदाबाद में करणी सेना के सदस्यों ने एक मॉल में ही आग लगा दी थी.

बेकाबू भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को दो राउंड फायरिंग तक करनी पड़ी. आग की चपेट में मॉल और आसपास की दुकानें भी आ गईं. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि हिमालयन मॉल में आगजनी करने वालों की भीड़ में करीब 2 हजार तक लोग शामिल थे.

 

बताया जा रहा है कि करीब डेढ़ घंटे तक करणी सेना के सदस्यों ने पूरा इलाका जाम करके रखा था. इन्होंने मॉल और इसके आस-पास की दुकानों के साथ ही वहां खड़े वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया. दर्जनों वाहन आग की चपेट में आ गए.

हिमालयन मॉल के मैनेजर राकेश मेहता ने कहा है कि उन्होंने मॉल के बाहर पहले ही एक बोर्ड में यह लिखकर टंगवा दिया था कि यहां पद्मावत फिल्म नहीं दिखाई जाएगी. उन्होंने कहा है कि इसके बावजूद मॉल को तबाह कर दिया गया.

First published: 25 January 2018, 12:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी