Home » बॉलीवुड » Similarity between The Gujarat Gangster of 80's Abdul Latif and Shah Rukh Khan's Raees
 

क्या 'रईस' का हीरो 'रियल लाइफ' का विलेन है, जानिए अब्दुल लतीफ़ का अतीत

सुधाकर सिंह | Updated on: 25 January 2017, 15:51 IST

बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म रईस बॉक्स ऑफिस पर रिलीज हो गई है. निर्देशक राहुल ढोलकिया की इस फिल्म में 80 के दशक के गुजरात को फिल्माया गया है. कबाड़ का काम करने वाली मां का बेटा रईस (शाहरुख खान) मुफलिसी से छुटकारा पाने के लिए देसी शराब की दुकान पर काम करना शुरू कर देता है. 

रईस की इस सक्सेस स्टोरी में कई रोचक मोेड़ आते हैं. शाहरुख के साथ नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने फिल्म में पुलिस अफसर का किरदार निभाया है. फिल्म में मूसाभाई के जरिए रईस ख़ुद शराब का धंधा शुरू कर देता है. रईस के साहस और दुस्साहस से भरी फिल्म को लेकर विवाद भी उठे. 

खासकर गुजरात के गैंगस्टर अब्दुल लतीफ़ के अतीत से फिल्म की कहानी के जुड़ा होने का दावा किया गया. इसमें कितनी सच्चाई है, यह तो बहस का मुद्दा हो सकता है. हालांकि यह बात सच है कि अब्दुल लतीफ के शराब माफ़िया बनने की कहानी भी रईस से मिलती-जुलती है. 

अब्दुल लतीफ का अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से कनेक्शन कोई छिपी बात नहीं थी. गैंगस्टर के बेटे मुश्ताक शेख ने अहमदाबाद की अदालत में फिल्म के खिलाफ 101 करोड़ की मानहानि का दावा तक ठोक दिया था. तो चलिए आपको बताते हैं रियल लाइफ के विलेन अब्दुल लतीफ का अतीत:

फिल्म

80 के दशक का सरगना अब्दुल लतीफ

80 के दशक में अब्दुल लतीफ गुजरात के पोपटियावाड़ में शराब तस्करी के अवैध कारोबार का सरगना था. जल्द ही वो इलाके का डॉन बन गया. ऐसा कहा जाता है कि जवानी के दिनों में वो जुए के अड्डों पर काम करने के अलावा शराब की सप्लाई करता था.

यही वजह थी कि जल्द ही वो शराब तस्करी के काले कारोबार में उतर आया. यही नहीं लतीफ हवाला, जमीन के अवैध धंधे और कॉन्ट्रैक्ट किलिंग में भी शामिल रहा.  अब्दुल लतीफ  पर आरोप लगा कि वो गुजरात के पश्चिमी तट से लगे गांवों के रास्ते देश में हथियारों की तस्करी को भी अंजाम देता था. 

97 केस की हिस्ट्रीशीट

माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम से उसकी करीबियों की चर्चा रही. यही वजह थी कि 1993 के मुंबई सीरियल बम धमाकों में भी लतीफ के शामिल होने का अंदेशा जताया गया.

लतीफ की करतूतों के साथ ही उसकी कथित रॉबिन हुड छवि के किस्से भी चर्चा में रहे. दावा किया गया कि वो गरीब और कमजोर तबके के मुस्लिम युवकों को रोजगार दिलाने में मदद करता था. गैंगस्टर अब्दुल लतीफ के खिलाफ कुल 97 केस दर्ज थे. इनमें शराब की तस्करी के अलावा टाडा के तहत कई गंभीर मामले भी शामिल हैं. 

फिल्म

1997 में लतीफ का एनकाउंटर

1997 में नरोदा पाटिया इलाके में पुलिस के साथ मुठभेड़ में लतीफ मारा गया. आरोप था कि लतीफ साबरमती जेल से भागने की कोशिश कर रहा था, जहां वो 1995 से कैद था.

वैसे रईस किसी माफिया डॉन के जीवन पर बनी पहली फिल्म नहीं है. इससे पहले भी मुंबई के डॉन हाजी मस्तान और दाऊद इब्राहिम पर आधारित वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई फिल्म बनी थी. जिसमें अजय देवगन और इमरान हाशमी ने किरदार निभाया था. 

हाजी मस्तान के परिजनों ने भी इस मामले में मानहानि याचिका दाखिल की थी. वहीं निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने 2002 में दाऊद इब्राहिम और छोटा राजन पर आधारित कंपनी फिल्म बनाई थी.  

निर्देशक अनुराग बासु ने 2006 में माफिया डॉन अबु सलेम की जिंदगी पर आधारित गैंगस्टर फिल्म बनाई थी. जिसमें शाइनी आहूजा, कंगना रनौत और इमरान हाशमी ने मुख्य भूमिका अदा की थी. 

इसके अलावा 2012 में अनुराग बासु की फिल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर (पार्ट-2 भी) कोयला माफिया की पृष्ठभूमि पर आधारित थी. जिसमें तिग्मांशु धूलिया, मनोज बाजपेयी और नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने किरदार निभाए थे.

फिल्म पोस्टर

फिल्म रईस

फिल्म: रईस

डायरेक्टर: राहुल ढोलकिया 

स्टार कास्ट: शाहरुख खान, माहिरा खान, नवाजुद्दीन सिद्दीकी, अतुल कुलकर्णी, आर्यन बब्बर

अवधि: 2 घंटा 22 मिनट 

सर्टिफिकेट: U/A

First published: 25 January 2017, 15:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी