Home » बॉलीवुड » Why are people so bothered what the parents want to name their child please: Rishi Kapoor
 

'तैमूर' पर तकरार: ऋषि कपूर बोले, एलेक्जेंडर और सिकंदर संत नहीं थे

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 December 2016, 10:24 IST

बॉलीवुड स्टार करीना कपूर और सैफ अली खान के घर में नए सदस्य का आगमन हुआ है, नाम भी रख दिया गया. कहते हैं कि नाम में क्या रखा है, हालांकि इसके उलट सोशल मीडिया में ज़्यादा चर्चा इस बात की हो रही है कि उन्होंने अपने बेटे का नाम तैमूर क्यों रखा?

नाम से जुड़े इस विवाद में अब एक्टर ऋषि कपूर, करीना और सैफ के समर्थन में उतर आए हैं. ऋषि कपूर ने ट्विटर पर लोगों को जमकर लताड़ लगाई है. ऋषि ने ट्वीट किया, "माता-पिता अपने बच्चे का नाम क्या रखना चाहते हैं, लोग इस बारे में इतने परेशान क्यों हैं? अपना काम कीजिए, इसका आपसे कोई मतलब नहीं है. मां-बाप की इच्छा!"

'तुम्हारे बेटे का नाम तो नहीं रखा'

इसके बाद एक ट्विटर यूजर ने ऋषि कपूर से सवाल किया, "इतने सारे नामों में से तैमूर!! पैरेंट्स इतना बेहूदा नाम कैसे रख सकते हैं. कभी इस तरह का नाम नहीं सुना."

इस के जवाब में ऋषि कपूर ने ट्वीट किया, "तुम अपना काम करो. तुम्हारे बेटे का नाम तो नहीं रखा ना? तुम कौन होते हो कमेंट करने वाले?"

'एलेक्जेंडर और सिकंदर काफी प्रचलित नाम हैं'

ट्विटर पर ये गरमागरम बहस यहीं नहीं रुकी. रवि नाम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए ऋषि कपूर से कहा गया, "लोगों की चिंताएं जानने के लिए आपको तैमूर, औरंगजेब आदि का इतिहास पढ़ने की ज़रूरत है. तब आपको पता चलेगा कि उन्होंने क्या अत्याचार किए थे?"

इस ट्वीट के जवाब में ऋषि कपूर ने जवाब दिया, "एलेक्जेंडर और सिकंदर संत नहीं थे. वे दुनियाभर में काफ़ी प्रचलित नाम हैं. अपना काम करो न तुम. तुमको क्या तकलीफ है?"

ब्लॉक करने की दी चेतावनी

इसके बाद अमितेश नाम के ट्विटर यूजर ने एक और टिप्पणी करते हुए कहा, "पृथ्वीराज कपूर से तैमूर अली तक क्या गिरावट है...आपके पूर्वजों की आत्मा आज रो रही होगी. आप लोगों को शर्म आनी चाहिए..."

इस पर ऋषि कपूर ने ट्वीट किया, "तुम अपना बेहूदा काम करो, इस बारे में मत ध्यान दो कि मेरे पूर्वजों को क्या महसूस हो रहा है. अपना काम करो."

इस ट्वीट के बाद ऋषि कपूर ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि बहुत सारे लोगों को वे ब्लॉक करने जा रहे हैं अगर इस पर ज्यादा बहस हुई. एक्टर ने ट्विटर यूजर को चुप रहने की नसीहत दी.

First published: 22 December 2016, 10:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी