Home » बॉलीवुड » Salman khan jail in black buck poaching case black buck is under wild life protection act
 

काले हिरण में क्या है ऐसा खास, जिसने सलमान को सलाखों के पीछे भेज दिया

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 April 2018, 15:26 IST

सलमान खान को काला हिरण मामले में 5 साल की सजा का ऐलान हुआ है. 20 साल से चल रहे केस में आज जोधपुर कोर्ट ने फैसला सुनाया है. सलमान ख़ान पर राजस्थान के जोधपुर में दो चिंकारों (ब्लैक बक) का शिकार करने का आरोप है. इन्हें काला हिरण भी कहा जाता है.

मामला 20 साल पहले का है, 1 अक्टूबर की रात राजश्री प्रोडक्शन की फिल्म 'हम साथ-साथ हैं' की शूटिंग के दौरान सलमान ने शिकार में दो हिरणों को मार दिया था. इस घटना के बाद बिश्नोई समुदाय ने सलमान ख़ान के ख़िलाफ़ मामला दर्ज कराया और दस दिन बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया पर उन्हें ज़मानत मिल गयी थी. तब से ये मामला चला आ रहा है. आज दो दशक बाद उन्हें दोषी करार दे दिया गया.

क्यों इतना अहम है काला हिरण मामला

काला हिरण ब्लैक बक जिसे इंडियन एंटेलोप भी कहा जाता है. आमतौर पर ये भारत, नेपाल और पाकिस्तान में ही पाया जाता है. काला हिरण संरक्षित प्रजाति है जिसकी घटती जनसंख्या के मद्देनजर कानूनी मदद ली इसके शिकार पर रोक लगाई जा सके और इन जानवरों का संरक्षण किया जा सके. वन्य संरक्षण अधिनियम के तहत संरक्षित जानवरों के शिकार पर प्रतिबन्ध है.

कुछ इलाकों में तो इनकी आबादी तो सामान्य है लेकिन संरक्षित इलाकों में ही ये बढ़ पा रहे हैं. इनके रहने के इलाकों में लगातार कमी आ रही है, लेकिन फिर भी इनके मामले में कुछ संतुलन बना हुआ है.

ये भी पढ़ें-  Video: 20 साल पहले सलमान का कबूलनामा, गैर लाइसेंसी बंदूक से किया शिकार

 भारतीय संस्कृति का हिस्सा रहा है काला हिरण 

भारतीय संस्कृति में भी काले हिरण का ख़ास स्थान रहा है. अनुमान है कि सिंधु घाटी सभ्यता में ये भोजन का स्रोत रहा है और धोलावीरा और मेह्रगढ़ जैसी जगह भी इसकी हड्डियों के अवशेष मिले हैं.

16वीं से 19वीं सदी के बीच कायम रही मुग़ल काल में ब्लैक बक की कई छोटी पेंटिंग मिलती हैं. भारत और नेपाल में ब्लैक बक को नुकसान नहीं पहुंचाया जाता और नुकसान पहुंचाने वालों से सख़्ती से निपटा जाता है.

ये भी पढ़ें- काला हिरण मामला: जानें क्यों कोर्ट ने तब्बू, सैफ, नीलम और सोनाली को किया बरी

बिश्नोई समुदाय के लिए है पूजनीय

बिश्नोई समुदाय काला हिरन की पूजा करता है. इस समुदाय के लोग काला हिरन को अपने परिवार के सदस्य जैसा मानते हैं. आंध्र प्रदेश ने इन्हें स्टेट एनिमल का दर्जा दिया है. राजस्थान में करणी माता को काले हिरण का संरक्षक माना जाता है. संस्कृत में काले हिरण का ज़िक्र कृष्ण मृग के रूप में मिलता है. हिंदू प्राचीन ग्रंथों के मुताबिक ब्लैक बक भगवान कृष्ण का रथ खींचता नज़र आता है. काले हिरण को वायु, सोम और चंद्र का वाहन भी माना जाता है.

First published: 5 April 2018, 15:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी