Home » बॉलीवुड » Sidharth malhotra urge to modi government for strengthen animal protection laws
 

सिद्धार्थ मल्होत्रा की मोदी सरकार को अर्जी, कहा- इस कानून में हो बदलाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 May 2018, 10:18 IST

बॉलीवुड एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा ने मोदी सरकार को एक अर्जी दी है. पशुओं के साथ नैतिक व्यवहार के पक्षधर लोगों (पेटा) की ओर से सिद्धार्थ मल्होत्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक लेटर लिखा है. इस लेटर में उन्होंने पशुओं के साथ हो रही क्रूरता के खिलाफ आवाज उठाई है.

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने पीएम मोदी से पशुओं के साथ क्रूरता भरे कृत्यों को अंजाम देने वाले लोगों के खिलाफ सख्त दंड का अनुरोध किया है. इस बात को लेकर सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कहा है कि भारत में पशुओं के साथ क्रूरता रोकथाम अधिनियम, 1960 में दंड का प्रावधान काफी पुराना है.

एक्टर ने कहा, "भारत में पशुओं के साथ क्रूरता रोकथाम अधिनियम, 1960 में दंड का प्रावधान काफी पुराना है, जिसमें पशुओं के साथ क्रूरता करने वाले अरोपी को दोषी पाए जाने पर अधिकतम 50 रुपये जुर्माने का भुगतान शामिल हैं." सिद्धार्थ मल्होत्रा ने संविधान के इस कानून को कलाई पर चिट्टी काटने जैसा करार दिया है. 

Rehabilitated, nurtured and loved at @wildlifesos 🐘 #SaveTheElephantDay

A post shared by Sidharth Malhotra (@s1dofficial) on

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने लेटर में लिखा, "यही वजह है कि हमारे देश में अखबार वीभत्स पशु उत्पीड़न की खबरों से भरा रहता है. जिसमें कुत्तों को जहर देकर मारने, गायों को एसिड से जलाने, बिल्ली की पीट-पीट कर हत्या कर देने जैसी घटनाएं शामिल हैं. यह पशुओं के प्रति सम्मान के रूप में हमारे देश की प्रतिष्ठा को महत्वपूर्ण नुकसान पहुंचा रहा है."

Prepping for the Indian #Avengers 😊@KatrinaKaif #AdityaRoyKapoor #SidFit

A post shared by Sidharth Malhotra (@s1dofficial) on

सिद्धार्थ ने इस लेटर में आगे लिखा, "जो भी पशुओं के साथ क्रूरता का दोषी पाया जाता है उसे जेल और अर्थपूर्ण जुर्माना लगाया जाना चाहिए. साथ ही उसकी काउंसलिंग और पशुओं के साथ संपर्क पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए. इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 51 ए (जी) के तहत पशुओं के प्रति करुणा दिखाने के हमारे कर्तव्य को बेहतर ढंग से पालन किया जा सकता है और उन्हें बड़े पैमाने पर हिंसक व्यवहार से संरक्षित किया जा सकता है."

First published: 24 May 2018, 10:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी