Home » बॉलीवुड » virat kohli anushka sharma reaction on bengaluru mass molestation
 

बेंगलुरु में छेड़छाड़ की शर्मनाक घटना पर अनुष्का-विराट ने उठार्इ आवाज़

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 January 2017, 16:01 IST

बेंगलुरु शहर में नए साल के जश्न के दौरान लड़कियों के साथ हुर्इ छेड़छाड़ की घटना पर अब तक बाॅलीवुड ने जमकर विरोध किया है. इसके खिलाफ अब भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली आैर अनुष्का शर्मा ने अवाज उठार्इ है. 

अनुष्का ने एक भावुक ट्विटर पोस्ट में कहा, "महिलाओं के साथ भीड़ वाले इलाके में छेड़छाड़ की जाती है. राहगीर देखते रहते हैं और कोई भी मदद के लिए आगे नहीं आता. बेहूदा लोग महिलाओं के कपड़ों पर कमेंट करते हैं और कहते हैं कि इसकी वजह देर रात घूमना-फिरना है."

उन्होंने कहा कि इन बेहूदा बयानों को तवज्जो मिलती है, क्योंकि ऐसे लोग समाज में रसूखदार पदों पर बैठे हैं.

वहीं टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने बेंगलुरु में हुई लड़की के साथ छेड़खानी की घटना पर अपना गुस्सा जाहिर किया है. विराट कोहली ने अपने सोशल मीडिया पेज पर एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि अपनी सोच बदलो और फिर आपके आस-पास की दुनिया अपने आप बदल जाएगी. 

बेंगलुरु छेड़छाड़ पर विराट कोहली ने कहा, "बेंगलुरु में जो भी हुआ वो मेरे लिए बेहद परेशान करने वाला है. उस लड़की के साथ इस तरह की घटना हो रही थी और कुछ बुज़दिल लोग इसे देख रहे थे. उन लोगों को खुद को मर्द कहने का कोई हक नहीं है. भगवान ना करे कभी ऐसा आपके परिवार के किसी सदस्य के साथ हो तो भी क्या आप उसे दूर से खड़े देखते रहेंगे या मदद करेंगे?"

कोहली ने कहा, "कुछ लोग ऐसा सोचते हैं कि इस लड़की ने छोटे कपड़े पहने हैं इसलिए उसके साथ ऐसा होना ठीक है, ये उसकी ज़िंदगी और ये किसी भी लड़की का अपना फैसला है कि वो क्या पहने और क्या नहीं. कुछ लोग सिर्फ इस वजह से खड़े होकर सिर्फ तमाशा देखते हैं. अब ये हम मर्दों की ज़िम्मेदारी है कि हम खड़े होकर इसके खिलाफ आवाज़ उठाएं. इससे भी ज्यादा डरावना ये है कि कुछ लोग ऐसी घटनाओं के बचाव में आ जाते हैं. हमें अपनी सोच को बदलने की ज़रूरत है."

टीम इंडिया के कप्तान का कहना है, "हमें एक समाज के तौर पर ऐसी सोच, ऐसा करने वाले कुछ लोगों को बदलना होगा, ये घटना मेरे लिए अस्वीकार्य और हैरान करने वाली है, मुझे शर्म आ रही है कि मैं इस समाज का हिस्सा हूं, हमें अपनी सोच को बदलने की ज़रूरत है और समाज में महिलाओं को पुरुषों के बराबर दर्जा देना चाहिए, उन्हें सम्मान देना चाहिए. सोच कर देखिए अगर इस जगह आपका परिवार होता तो फिर क्या होता? जय हिंद."

First published: 6 January 2017, 16:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी