Home » बिज़नेस » 10 amazing facts of McDonald's you probably don't know
 

मैकडोनाल्ड्स के बारे में 10 अनोखी बातें

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 4 May 2016, 15:40 IST

मशहूर फूड चेन मैकडोनाल्ड्स और यहां परोसे जाने वाले फास्ट फूड के बारे में अधिकांश लोग जानते हैं. हालांकि फिलहाल यह खुद को और फैलाते हुए मजबूत बनाने में जुटी हुई है. 

जानेंः 10 बातें जो विमान केेबिन क्रू नहीं बताते आपको

पिछले कई वर्षों से इस फूड चेन के निराशाजनक सालाना नतीजों में बीते वर्ष कुछ सुधार देखने को मिला है. कंपनी के नए ब्रिटिश सीईओ स्टीव ईस्टरब्रूक के आने के बाद से बीते साल इसकी चेन में हिस्सेदारी 28 फीसदी तक और बिक्री 5.4 फीसदी तक बढ़ी है. 

Mcdonald

हालांकि इसके बावजूद भी ऐसी तमाम जानकारियां हैं जिन्हें शायद ही आप जानते हों. आइए आपको रूबरू कराते हैं ऐसी ही कुछ जानकारियों से.

  1. आम वॉल स्ट्रीट निवासियों की ही तरह मैकडोनाल्ड्स के संस्थापक रे क्रॉक की बिजनेस एप्रोच काफी निर्मम थी. उनका कहना था, "कॉन्ट्रैक्ट्स दिलों की ही तरह होते हैं. यह तोड़ने के लिए बनाए जाते हैं."
  2. मैकडोनाल्ड्स के मेनू का पहला आइटम हैमबर्गर नहीं था. मैकडी सबसे पहले हॉट डॉग लेकर आया था.
  3. जर्मनी में मौजूद मैकडोनाल्ड्स के स्टोर में ग्राहक बीयर भी खरीद सकते हैं. वहां के मेनू में बीयर का भी विकल्प होता है.
  4. अगर मैकडोनाल्ड्स एक देश होता तो यह दुनिया का 68वां सबसे अमीर मुल्क होता.
  5. मैकडोनाल्ड दुनिया में खिलौनों का सबसे बड़ा डिस्ट्रीब्यूटर है.
  6. हर आठ में से एक अमेरिकी ने अपने जीवन में कभी न कभी मैकडोनाल्ड्स में काम किया है. इनमें अमेजॉन के संस्थापक जेफ बेजॉस भी शामिल हैं
  7. मैकडोनाल्ड्स के लोगो यानी (m) या फिर गोल्डेन आर्चेज को दुनिया में ईसाई क्रॉस से भी ज्यादा लोग पहचानते हैं.
  8. मैकडोनाल्ड्स में रोजाना दुनिया की एक फीसदी जनसंख्या या पूरे युनाइटेड किंगडम के बराबर यानी 6 करोड़ 80 लाख लोग खाते हैं.
  9. यह भी कहा जा सकता है कि मैकडोनाल्ड्स प्रति सेकेंड 75 बर्गर और प्रति दिन 100 करोड़ कप कॉफी पिलाता है.
  10. भारत में मैकडोनाल्ड्स बीफ और पोर्क के प्रोडक्ट नहीं बेचता. यहां वो केवल चिकेन प्रोडक्ट ही उपलब्ध कराता है.

First published: 4 May 2016, 15:40 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी