Home » बिज़नेस » 28 fugitive economic offenders are living outside India, according to External Affairs Ministry
 

6 महिलाओं सहित भारत छोड़ने वाले 28 भगोड़ों की पूरी लिस्ट, जिन्होंने लगाया देश को अरबों का चूना

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 August 2018, 15:19 IST

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) छह महिलाओं सहित 28 भारतीयों को वापस लाने के लिए कानूनी संघर्ष कर रहा है. इन सभी पर वित्तीय अनियमितताओं और अन्य अपराधों का आरोप है. ये सभी आरोपी साल 2015 से विदेश में रह रहे हैं.

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने 25 जुलाई 2018 को लोकसभा में ऐसे व्यक्तियों के नामों की सूचि पेश की. प्रोफेसर के.वी. थॉमस द्वारा पूछे गए एक प्रश्न का उत्तर देते हुए सिंह ने कहा इन आरोपियों को एलओसी, आरसीएन (रेड कॉर्नर नोटिस) और प्रत्यर्पण के माध्यम से वापस लाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं.

सीबीआई 23 भगोड़ो से संबंधित मामलों का पीछा कर रही है. जबकि ईडी 13 मामलों का संचालन कर रही है. इन दोनों सूचियों में विजय माल्या, मेहुल चोकसी, नीरव मोदी, जतिन मेहता, आशीष जॉबनपुत्र, चेतन जयंतीलाल संदेसारा, नितिन जयंतील संदेसारा और दिप्तिबेन चेतनकुमार संदेसारा - दोनों सूचियों में शामिल हैं.


23 मार्च 2018 को राज्यसभा में इसी तरह के एक प्रश्न के लिए वीके सिंह ने कहा कि 2014 के बाद से 23 भगोड़े अभी तक प्रत्यर्पित किए गए हैं. मार्च 2018 तक भारत ने संयुक्त राज्य अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, फ्रांस सहित 48 देशों के साथ प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर किए हैं. इसमें जर्मनी, यूके, और हांगकांग के अलावा, क्रोएशिया, इटली और स्वीडन के साथ प्रत्यर्पण संधि पर हस्ताक्षर किए गए हैं.

ये रही पूरी लिस्ट 

पुष्पेश बैद
आशीष जोबनपुत्र,
विजय माल्या
सन्नी कालरा,
संजय कालरा
सुधीर कुमार कालरा
आरती कालरा
वर्षा कालरा
जतिन मेहता
उमेश पारेख
कमलेश पारेख
नीलेश पारेख
एकलव्य गर्ग
विनय मित्तल
चेतन जयंतील संदेसारा
नितिन जयंतील संदेसारा
दीप्तीबेन चेतनकुमार संदेसारा
नीरव मोदी
निशाल मोदी
मेहुल चोकसी
सब्या सेठ
राजीव गोयल
अल्का गोयल
ललित मोदी
रितेश जैन
हितेश नरेंद्रभाई पटेल
मयूरीबेन पटेल
प्रीति आशिष जोबनपुत्र

First published: 4 August 2018, 15:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी