Home » बिज़नेस » 92,700 employees of BSNL-MTNL opted for VRS, telecom will save so much money
 

BSNL-MTNL के 92,700 कर्मचारियों ने चुना VRS, बचेंगे सालाना 8,800 करोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 December 2019, 12:43 IST

बीएसएनएल और एमटीएनएल के लगभग 92,700 कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का विकल्प चुना है. माना जा रहा है कि इससे कर्ज से जूझ रही दूरसंचार कंपनियों के वेतन बिलों में सालाना लगभग 8,800 करोड़ रुपये की बचत होगी. दोनों कंपनियों के शीर्ष अधिकारियों ने कहा है कि संख्या स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) अपने निर्धारित लक्ष्य को पार कर गई है. बीएसएनएल के 78,300 से अधिक कर्मचारियों ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का विकल्प चुना जो कंपनी की कुल श्रमशक्ति का आधा है.

एमटीएनएल के 14,378 कर्मचारियों में से 76 फीसदी ने वीआरएस चुना है. पीटीआई की अनुसार बीएसएनएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक पीके पुरवार ने कहा ''मंगलवार को वीआरएस आवेदन की तिथि समाप्त हो गई. आंकड़ों के अनुसार बीएसएनएल के लगभग 78,300 कर्मचारियों ने वीआरएस का विकल्प चुना है. वीआरएस आवेदकों के अलावा लगभग 6,000 कर्मचारी सेवानिवृत्त हो चुके हैं''.

एमटीएनएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक सुनील कुमार ने कहा कि उसने भी वीआरएस के लिए निर्धारित लक्ष्य को पार कर लिया है. कुमार ने कहा "14,378 कर्मचारियों ने वीआरएस का विकल्प चुना है, जबकि 13,650 कर्मचारियों के वीआरएस का लक्ष्य रखा गया था''.

कुमार ने कहा ''यह हमारे वार्षिक वेतन बिल को 2,272 करोड़ से घटाकर 500 करोड़ कर देगा. अब हमारे पास 4,430 कर्मचारी हैं जो हमारे व्यवसाय को चलाने के लिए पर्याप्त हैं." BSNL ने 2018-19 में 14,904 करोड़ और MTNL ने 8 3,398 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया था. दोनों कंपनियों पर कुल कर्ज 40,000 करोड़ था, जिनमें से आधा कर्ज MTNL पर है जो दिल्ली और मुंबई में संचालित होती है.

 टाटा भी बढ़ाएगी जनवरी से वाहनों की कीमत, अन्य कंपनियां भी कर रही हैं विचार

First published: 4 December 2019, 12:36 IST
 
अगली कहानी