Home » बिज़नेस » A year after India's biggest bank fraud, PNB on road for annual profit
 

13,000 करोड़ के घोटाले से उबरा PNB, पहली बार होगा इतना बड़ा सालाना प्रॉफिट

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 February 2019, 15:10 IST

13,000 करोड़ के घोटाले की चपेट में आने के एक साल बाद पंजाब नेशनल बैंक (PNB) वित्त वर्ष 2020 में वार्षिक लाभ और मजबूत ऋण वृद्धि पर लौटने के लिए तैयार है. जबकि देश की सबसे बड़ी बैंकिंग धोखाधड़ी की जांच अभी जारी है. पीएनबी ने पहले ही समाप्त दिसंबर तिमाही में सबको आश्चर्यचकित कर दिया है. 31 दिसंबर को पीएनबी ने घोटाले के असर को कम करने के लिए बैड लोन के स्तर को कम किया है.

31 मार्च को समाप्त होने वाले इस वित्तीय वर्ष के लिए ऋणदाता को अभी भी 59.84 बिलियन रुपये (837.16 मिलियन डॉलर) का नुकसान होने की संभावना है. विश्लेषकों को उम्मीद है कि रिफाइनिटिटिव डेटा के अनुसार, अगले वित्त वर्ष में पीएनबी को पूरे साल के लाभ पर लौटना होगा. बैंक को मार्च 2020 में समाप्त होने वाले वर्ष के लिए 22.66 बिलियन रुपये का शुद्ध लाभ होने की उम्मीद है, जो कि पांच वर्षों में इसका सबसे अधिक वार्षिक लाभ होगा.

 

विश्लेषकों के अनुमान के अनुसार, पीएनबी की ऋण वृद्धि वित्त वर्ष 2020 के लिए 8.33 प्रतिशत होने का अनुमान है, जो कि 4 वर्षों में उच्चतम है. इसकी कुल संपत्ति तीन साल में उच्चतम दर से बढ़ने का अनुमान है. ऋणदाता ने कहा कि फरवरी 2018 में दो आभूषण समूहों ने विदेशी स्टाफ को क्रेडिट जुटाने के लिए जारी किए गए नकली बैंक गारंटियों का इस्तेमाल किया घोटाले के सामने आने के बाद तिमाही के लिए पीएनबी का घाटा भी 1.90 बिलियन डॉलर हो गया था.

मिंट की रिपोर्ट के अनुसार मुंबई स्थित ब्रोकरेज मोतीलाल ओसवाल सिक्योरिटीज के एक विश्लेषक अल्पेश मेहता ने कहा, "वित्त वर्ष 20 में कॉर्पोरेट लोनर्स के लिए यह एक अच्छा दौर होने जा रहा है क्योंकि क्रेडिट ग्रोथ बढ़ी है और एसेट क्वालिटी से जुड़ी समस्याएं काफी हद तक हमारे पीछे हैं."

FY20 में, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, संपत्ति के हिसाब से देश का सबसे बड़ा ऋणदाता और बैंक ऑफ बड़ौदा से कम से कम 1998 के बाद से अपने सर्वश्रेष्ठ वार्षिक लाभ की रिपोर्ट करने की उम्मीद है. पिछले साल के मध्य फरवरी से पीएनबी के शेयर लगभग 56 प्रतिशत गिर चुके हैं.

लार्सन एंड टुब्रो ने पर्यावरणीय मंजूरी पाने के लिए दी करोड़ों की रिश्वत : रिपोर्ट

First published: 18 February 2019, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी