Home » बिज़नेस » Aadhar Card UIDAI Extends deadline to Deploy Virtual Id System to First July
 

अब आधार कार्ड की जगह काम करेगी ये आईडी, 1 जुलाई से होगी लागू

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 June 2018, 11:09 IST

फेसबुक डेटा लीक मामले के बाद अब यूजर्स अपने डेटा को लेकर सतर्क हो गए हैं. यही नहीं 80 फीसदी लोग अपने आधार डेटा को लेकर भी चिंता हैं. ये बात मार्केट रिसर्च एंड एनालिसिस कंपनी विलोसिटी एमआर की एक नेशनल स्टडी में पता चली है. जिसमें बताया गया है कि 10 में 8 लोग अपने आधार डेटा सिक्योरिटी को लेकर चिंतित हैं.

लोगों का कहना है कि सरकार को ऑनलाइन डेटा प्रोटेक्शन में हस्तक्षेप करना चाहिए. ऐसे में वो सभी लोग जो अपना यूनिक बायोमैट्रिक नंबर साझा नहीं करना चाहते, वे आधार वर्चुअल आईडी (वीआईडी) का इस्तेमाल कर सकते हैं.

बता दें कि आधार अथॉरिटी भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई ) ने वर्चुअल आईडी को अनिवार्य करने की आखिरी तारीख 1 जून लागू की थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 1जुलाई कर दिया गया है.

यूआईडीएआई के सीईओ अजय भूषण पांडे के मुताबिक वर्चुअल आईडी की व्यवस्था लागू करने के लिए हम तो तैयार हैं, लेक‍िन बैंक और टेलीकॉम कंपनियों सहित अन्य एजेसियों की दिक्कतों को देखते हुए इसकी डेडलाइन बढ़ाई गई है.

बता दें कि पिछले दिनों आधार डाटा लीक की खबरों के बीच यूआईडीएआई ने वर्चुअल आईडी की व्यवस्था की थी. इसमें आपको जहां आधार डिटेल देने की जरूरत पड़ेगी, वहां आप अपनी वर्चुअल आईडी दे पाएंगे. इस तरह आपका आधार नंबर और अन्य डाटा पूरी तरह सुरक्ष‍ित रहेगा. वैसे वर्चुअल आईडी की सुविधा 1 मार्च से शुरू हो चुकी है. हालांकि अब इसे 1 जुलाई से अनिवार्य किया जाएगा.

 

जानिए क्या है वर्चुअल आईडी

वर्चुअल आईडी 16 अंकों का एक रैंडम अस्थाई नंबर होता है जिसे आधार नंबर के साथ मैप किया गया है. इसी साल जनवरी में यूआईडीएआई ने स्पष्ट किया था कि जेनरेट किये गए वीआईडी से किसी का भी आधार नंबर निकाला नहीं जा सकता है. हालांकि इस वर्चुअल आईडी नंबर को आधार नंबर की तरह से ऑथेंटिकेट करने के उदेश्य से इस्तेमाल किया जा सकता है.

बता दें कि ये एक तरह की डिजिटल आईडी है. आधार धारक इसे कितनी भी बार चाहें जेनरेट कर सकते हैं. यह आधार नंबर साझा करने की तुलना में बेहद सुरक्षित विकल्प है. वीआईडी एक दिन के लिए वैलिड रहता है. यानि कोई भी आधार धारक दूसरी वीआईडी पहले वीआईडी जेनरेट करने के एक दिन बाद जेनरेट कर सकता है.

बता देें कि पहली वीआईडी तब तक वैलिड रहेगी जबतक कि एक दिन या उससे ज्यादा के समय के बाद दूसरी आईडी जनरेट नहीं की जाती. हालांकि ये सुविधा केवल यूआईडीएआई के पोर्टल पर ही उपलब्ध है. इसका इस्तेमाल केवल तभी किया जा सकता है अगर आधार डेटाबेस में आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड है.

ये भी पढ़ें- सचिन तेंदुलकर के फैन को धोनी ने दिया घर पर लंच, तसवीरें वायरल

First published: 2 June 2018, 11:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी