Home » बिज़नेस » After Federal Reserve Decision Sensex And Nifty Jumps
 

फेडरल रिजर्व के फैसले के बाद उछला भारतीय शेयर बाजार

अभिषेक पराशर | Updated on: 11 February 2017, 5:47 IST
QUICK PILL
  • अमेरिकी फेडरल रिजर्व की तरफ से ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किए जाने के फैसले के बाद भारत समेत एशियाई बाजारों में जबरदस्त खरीदारी हुई. फेड के फैसले के बाद बंबई स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स करीब 200 से अधिक अंकों की मजबूती के साथ खुला. 
  • बैंक ऑफ जापान की तरफ से ब्याज दरों में कटौती नहीं किए जाने के बाद भी शेयर बाजार में मजबूती देखने को नहीं मिली रही थी. बाजार को फेडरल रिजर्व की तरफ से ब्याज दरों में बढ़ोतरी किए जाने की आशंका सता रही थी. इसी वजह से  निवेशकों ने सतर्क रुख अख्तियार क र रखा था.
  • फेड ने यह साफ कर दिया है कि फिलहाल ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं होगी लेकिन उसने दिसंबर तक मजबूत मौद्रिक नीति को अपनाए जाने के संकेत जरूर दिए हैं. बैंक को लगता है कि दिसंबर तक अमेरिकी अर्थव्यवस्था की स्थिति ब्याज दरों के बढ़ाने लायक होगी. 

अमेरिकी फेडरल रिजर्व की तरफ से ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किए जाने के फैसले के बाद भारत समेत एशियाई बाजारों में जबरदस्त खरीदारी हुई. फेड के फैसले के बाद बंबई स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स करीब 200 से अधिक अंकों की मजबूती के साथ खुला. 

बुधवार को सेंसेक्स 28,507.42 पर बंद हुआ था लेकिन गुरुवार को मजबूत वैश्विक संकेतों के बीच यह करीब 200 अंकों की तेजी के साथ 28,766.94 पर खुला. गुरुवार को सेंसेक्स 265.71 अंक की मजबूती के साथ 28,773.13 पर बंद हुआ. पिछले दो दिनों से सेंसेक्स में कमजोरी देखने को मिल रही थी.

सेंसेक्स के अलावा सभी इंडेक्स में निवेशकों ने जमकर खरीदारी की. बीएसई ऑटो इंडेक्स में शानदार 322 अंकों की तेजी आई वहीं बैंकिंग इंडेक्स भी करीब 350 अंक चढ़कर बंद हुआ. 

बैंकिंग शेयरों में सबसे अधिक खरीदारी पीएनबी, फेडरल बैंक, इंडसइंड बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, एसबीआईएन और यस बैंक में हुई. 

बीएसई मिड कैप इंडेक्स जहां 182 अंक चढ़कर बंद हुआ वहीं स्मॉल कैप इंडेक्स में 127 अंकों की तेजी रही. मेटल इंडेक्स 100.41 अंक चढ़कर बंद हुआ जबकि ऑयल एंड गैस इंडेक्स में 11350.11 अंक की तेजी रही. 

चौतरफा खरीदारी की वजह से सेंसेक्स में सबसे अधिक मजबूती एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, हीरो मोटाकॉर्प, अदानी पोर्ट्स, एशियन पेंट्स, एनटीपीसी और टाटा स्टील के शेयरों में देखी गई. वहीं टीसीएस, ल्यूपिन और एक्सिस बैंक लाल निशान में बंद हुए.

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 8800 के स्तर को पार करने में सफल रहा. निफ्टी 1.03 फीसदी मजबूत होकर 8,867.45 अंक पर बंद हुआ. निफ्टी में 38 शेयर हरे निशान में जबकि 13 शेयर लाल निशान में बंद हुए.

दिसंबर तक नहीं बढ़ेंगी ब्याज दरें

बैंक ऑफ जापान की तरफ से ब्याज दरों में कटौती नहीं किए जाने के बाद भी शेयर बाजार में मजबूती देखने को नहीं मिली रही थी. बाजार को फेडरल रिजर्व की तरफ से ब्याज दरों में बढ़ोतरी किए जाने की आशंका सता रही थी. इसी वजह से  निवेशकों ने सतर्क रुख अख्तियार क र रखा था.

दरअसल अमेरिका में रोजगार के खराब आंकड़ों के आने के बाद सितंबर महीने में फेड की बैठक में ब्याज दरों को वैसे ही रखे जाने की उम्मीद थी. बाजार को उम्मीद थी कि दिसंबर के पहले ब्याज दरों में कोई बढ़ोतरी नहीं होगी. 

लेकिन अमेरिकी केंद्रीय बैंक की तरफ से सितंबर महीने में होने वाली बैठक के दौरान ब्याज दरों को चरणबद्ध तरीके से बढ़ाए जाने का संकेत दिए जाने के बाद बाजार की उम्मीदों को जबरदस्त झटका लगा था.

फेडरल रिजर्व ने हालांकि दिसंबर तक मजबूत मौद्रिक नीति को अपनाए जाने के संकेत जरूर दिए हैं.

इस बीच बैंंक ऑफ जापान के आर्थिक प्रोत्साहनों को जारी रखे जाने और यूरोपीय केंद्रीय बैंक के ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं किए जाने के फैसले से बाजार को राहत मिली थी. अब फेडरल रिजर्व के बाद बाजार की आशंकाएं खत्म हो गई हैं.

बैंक ऑफ जापान के ब्याज दरों में किसी तरह का बदलाव नहीं किए जाने से बाजार को बड़ी राहत मिली है. बैंक ऑफ जापान ने महंगाई के 2 फीसदी स्तर तक नहीं आने की स्थिति में अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन पैकेज जारी रखने का फैसला लिया है. 

फेडरल रिजर्व के फैसले के बाद जापान का निक्केई, हॉन्ग कॉन्ग हेंगसेंग और शंघाई शेयर बाजारों में जबरदस्त तेजी का माहौल है. 

फेड ने यह साफ कर दिया है कि फिलहाल ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं होगी लेकिन उसने दिसंबर तक मजबूत मौद्रिक नीति को अपनाए जाने के संकेत जरूर दिए हैं. बैंक को लगता है कि दिसंबर तक अमेरिकी अर्थव्यवस्था की स्थिति ब्याज दरों के बढ़ाने लायक होगी. 

तेजी के बाद फिसला सेंसेक्स, फेडरल रिजर्व के नतीजों पर नजर

कोल इंडिया के बाद दूसरे बड़े आईपीओ के साथ आईसीआईसीआई प्रू ने दी बाजार में दखल

First published: 22 September 2016, 4:13 IST
 
अभिषेक पराशर @abhishekiimc

चीफ़ सब-एडिटर, कैच हिंदी. पीटीआई, बिज़नेस स्टैंडर्ड और इकॉनॉमिक टाइम्स में काम कर चुके हैं.

पिछली कहानी
अगली कहानी